Connect with us

ऑफ़बीट

नहीं देखा होगा ऐसा दिलदार हॉस्पिटल, दिल के मरीजों का होता है मुफ्त इलाज

Published

on

नई दिल्ली। बीमारी छोटी हो या बड़ी अस्पताल के भारी-भरकम खर्चों से कोई नहीं बच सकता और वो भी ऐसे दौर में जहां हर अस्पताल मरीजों को सिर्फ एक बिज़नस की तरह देखा जाता हो वहाँ तो खासतौर से।

लेकिन आज हम आपके लिए एक ऐसी खबर लाए है। जो अस्पताल की इस लूट से बेहद अलग है। जी हां दरअसल आज हम आपके लिए ऐसा अस्पताल खोज लाए है जो दिल के मरीजों का इलाज मुफ्त करता है।

छत्तीसगढ़ के रायपुर में बना ‘श्री साई अस्पताल’ गरीब मां-बाप के लिए किसी मसीहे से कम नहीं है। जो बच्चे हार्ट के पेशेंट होते है ये अस्पताल उन बच्चों का इलाज मुफ्त में करता है। जिससे किसी के घर का चिराग बुझने से बच जाता है इतना ही नहीं बल्कि इस अस्पताल में तो कोई कैश काउंटर तक नहीं है।

बता दें कि इस हॉस्पिटल में देशभर से कई मरीज पहुँचते है साथ ही अन्य देशों के लोग भी मुफ्त में इलाज करवाने यहां पहुँचते है। इनमे अपना पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान भी शामिल है। साल 2012 में बना ये अस्पताल ३० एकड़ में फैला हुआ है।

यहां नवजान बच्चों से लेकर 18 वर्ष तक के बच्चों का मुफ्त में इलाज किया जाता है। इतना ही नहीं यहां मरीज के साथ आये परिजनों के खाने रहने की भी मुफ्त व्यवस्था उपलब्ध कराई जाती है। अपनी इस अनोखी समाज सेवा के लिए इस हॉस्पिटल को 2016 में बेस्ट सिंगल स्पेशयिलिटी अवार्ड से बी नवाजा जा चुका है।

ऑफ़बीट

ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों पर जमकर वायरल हो रहे हैं ये फनी मीम्स, आप भी देखें

Published

on

नई दिल्ली। मोटर वीकल एक्ट में संशोधन के बाद 1 सितंबर से कुछ राज्यों को छोड़कर ये नया कानून पूरे देश में लागू हो गया। नए कानून के मुताबिक सड़क पर गाड़ी से चलते समय नियमों को तोड़ने पर आपको 10 गुना ज्यादा तक जुर्माना भरना पड़ सकता है।

नियम लागू होने के बाद कई लोगों के हजारों के चालान कट चुके हैं। नए नियम के मुताबिक हेलमेट न होने पर आपको 1000 रुपए का जुर्माना देना होगा। वहीं शराब पीकर गाड़ी चलाने पर आप पर 10 हजार का जुर्माना लगेगा।

वहीं गाड़ी चलाने वाला अगर नाबालिग है तो इसके लिए 25 हजार रुपए का जुर्माना तय किया गया है। सोशल मीडिया पर चालान को लेकर इन दिनों कई फनी मीम्स खूब वायरल हो रहे हैं। आईए देखते हैं इन फनी मीम्स को…

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending