Connect with us

खेल-कूद

मिताली राज का सचिन तेंदुलकर से ऐसा कनेक्शन, कर देगा हर एक को हैरान

Published

on

नई दिल्ली। मिताली राज महिला क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाली बल्लेबाज हैं। इसमें उनकी मेहनत और रनों की भूख सबसे बड़ा कारण है। लेकिन इस लंबे सफर में मिताली को यहां तक पहुंचाने में ‘क्रिकेट के भगवान’ कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर के बल्ले का भी रोल है और मिताली को लगातार खेलने के लिए प्रेरित करने के लिए सचिन के शब्दों का भी।

सचिन ने एक समय मिताली को बल्ला तोहफे में दिया था और मिताली ने उस बल्ले खूब रन बनाए। मिताली के साथ अभी भी वह बल्ला है। उनका कहना है कि सचिन को उन्हें अभी एक और बल्ला तोहफे में देना है। सचिन और मिताली बुधवार को राष्ट्रीय राजधानी में अंतर्राष्ट्रीय बालिक दिवस (11 अक्टूबर) के मौके पर यू्निसेफ द्वारा आयोजित कराए गए कार्यक्रम ‘बालिका सशक्तिकरण में खेलों की अहमित’ में शिरकत करने आए थे। इस दौरान मिताली ने इस राज को पहली बार दुनिया के सामने उजागर किया।

मिताली ने कहा, “ऐसा भी मौका आया था जब सचिन ने मुझे अपना बल्ला तोहफे में दिया था। मैंने उस बल्ले से काफी रन बनाए। वो बल्ला अभी भी मेरे पास है। सचिन को अभी मुझे एक और बल्ला देना है।” सचिन ने तुरंत कहा, “मैं चाहता था कि ये न रुकें इसलिए बल्ला तोहफे में दिया। मैं बल्ली लेकर आया हूं और आपको दूंगा। 2021 (अगला आईसीसी महिला विश्व कप) ज्यादा दूर नहीं है।”

मिताली जब विश्व कप के बाद भारत लौटी थीं तब उनसे सभी ने सवाल किया था कि क्या वह चार साल बाद विश्व कप में खेलेंगी? इस सवाल का जवाब देते हुए मिताली ने कहा था कि वह जब तक फिट हैं तब तक खेलेंगी।

लेकिन मिताली ने इस कार्यक्रम में अपने अगले विश्व कप में खेलने की संभावनाओं को जिंदा रखने की असल वजह बताई और कहा कि वह सचिन के कारण ही प्रेरित होकर अगले विश्व कप की दौड़ में शामिल हैं।

मिताली ने कहा, “जब मैंने 6,000 रन पूरे किए थे तब सचिन सर ने मुझे बधाई दी थी और कुछ ऐसा कहा जो मुझे अभी तक याद है और हमेशा मेरे साथ रहेगा। सचिन ने कहा था कि हार नहीं मानना। अगर तुम्हें लगता है कि तुम कुछ और साल खेल सकती हो तो खेलना। जब मैं विश्व कप खेल कर लौटी तो मुझे सवाल किए गए कि क्या मैं अगला विश्व कप खेलूंगी या नहीं, इस सवाल को सुनकर मुझे सचिन सर की बात याद आ गई थी।”

मिताली ने कहा कि आईसीसी महिला विश्व कप फाइनल से पहले उन्होंने सचिन से टीम को प्रेरित करने की दरख्वास्त की थी जिसे इस महान बल्लेबाज ने मान लिया था। मिताली ने कहा, “जब हम फाइनल में पहुंचे तो मैंने सचिन सर से कहा कि आप टीम के साथ कुछ वक्त बिताएं और उन्हें प्रोत्साहन दें क्योंकि आपके पास काफी अनुभव है। इन्होंने मेरे उस प्रस्ताव को मान लिया।” सचिन विश्व क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं वहीं मिताली उन्हीं के रास्ते पर चल रहीं हैं और महिला क्रिकेट में रनों के मामले में सबसे आगे हैं।?

खेल-कूद

भारतीय बॉलरों के आगे फिर फेल हुए दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाज

Published

on

नई दिल्ली। दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाज एक बार फिर भारतीय गेंदबाजों के सामने परेशानी में पड़ गए हैं। झारखंड राज्य क्रिकेट संघ (जेएससीए) स्टेडियम में खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन सोमवार को पहले सत्र का खेल खत्म होने तक मेहमान टीम ने अपने छह विकेट 129 रनों पर खो दिए हैं। भोजनकाल की घोषणा तक जॉर्ज लिंडा 10 और डीन पीट चार रन बनाकर खेल रहे हैं।

अभी तक दक्षिण अफ्रीका के लिए जुबेर हमजा ही भारतीय गेंदबाजों का कुछ हद तक सामने करने में सफल रहे। उन्होंने 79 गेंदों पर 10 चौके और एक छक्के की मदद से 62 रनों की पारी खेली। उन्हें रवींद्र जडेजा ने अपना शिकार बनाया।

हमजा दूसरे दिन नाबाद लौटे थे। उनके साथ कप्तान फाफ डु प्लेसिस (1) रन बनाकर नाबाद थे। तीसरे दिन इन दोनों ने दक्षिण अफ्रीका को दो विकेट के नुकसान पर नौ रनों के स्कोर से आगे बढ़ाया।

डु प्लेसिस को हालांकि दिन के पांचवीं गेंद पर उमेश यादव ने बोल्ड कर दिया। हमजा ने अपना खाता खोला और फिर भारतीय गेंदबाजों से अकेले लोहा लेने लगे। हमजा को टीम के उप-कप्तान टेम्बा बावुमा का कुछ साथ मिला और दोनों ने कुछ हद तक टीम को संभाला। इन दोनों के बीच चौथे विकेट के लिए 91 रनों की साझेदारी हुई। जडेजा ने 107 के कुल स्कोर पर हमजा को बोल्ड कर इस साझेदारी को तोड़ा।

अपना पदार्पण टेस्ट मैच खेल रहे शहबाज नदीम ने अपनी फिरकी से इस साझेदारी के दूसरे सिपाही बावुमा को पवेलियन भेजा। हमजा के आउट होने के बाद अगले ओवर में नदीम की गेंद पर बावुमा चूक गए और रिद्धिमान साहा ने उन्हें स्टम्पिंग करने में कोई गलती न करते हुए दक्षिण अफ्रीका को पांचवां झटका दिया। इसी के साथ नदीम ने टेस्ट में अपना विकेट का खाता खोला।

इस मैच में टीम में आए हेनरिक क्लासेन सिर्फ छह रन बना सके। जडेजा ने उन्हें 119 के कुल स्कोर पर बोल्ड किया। भारत के लिए अभी तक उमेश यादव और जडेजा दो-दो विकेट ले चुके हैं। मोहम्मद शमी और नदीम के हिस्से एक-एक सफलता आई है। रविचंद्रन अश्विन अभी तक खाली हाथ हैं।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending