Connect with us

नेशनल

हनीप्रीत को हरियाणा पुलिस ने सरेंडर से पहले किया गिरफ्तार

Published

on

डेरा सच्चा सौदा, राम रहीम, बलात्कार, हनीप्रीत, हरियाणा पुलिस, हरियाणा पुलिस

राम रहीम की बेटी की कोर्ट से मांगेंगे रिमांड : कमिश्‍नर

डेरा सच्चा सौदा के राम रहीम को बलात्कार के आरोप में दोषी करार दिये जाने के बाद हनीप्रीत पुलिस की चंगुल में आ ही गई है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पंजाब पुलिस ने हनीप्रीत को गिरफ्तार कर उसे हरियाणा पुलिस के हवाले कर दिया है।

हनीप्रीत 38 दिनों से फरार चल रही थी और उसे राम रहीम की मुंह बोली बेटी कहा जाता है। वहीं, इससे पहले हनीप्रीत मीडिया के सामने आई थी और उसने पुलिस के सामने सरेंडर करने की बात कही थी।

उधर पुलिस ने उसे सरेंडर से पहले ही गिरफ्तार करने की तैयारी कर ली थी। हरियाणा पुलिस ने पंचकुला के सेक्टर-1 स्थित कोर्ट कांप्लेक्स की ओर जाने वाली सभी रास्तों को सील कर दिया था। आपको बता दें कि हनीप्रीत पर देशद्रोह का आरोप है।

वहीं, इससे पहले हनीप्रीत की दिल्ली हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत अर्जी खारिज हो गई थी। इसके बाद उम्मीद की जा रही थी कि हनीप्रीत उर्फ प्रियंका सीबीआई अदालत में आत्‍मसमर्पण करेंगी या फिर पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत अर्जी दाखिल करेंगी।

हरियाणा पुलिस को सोमवार रात यह सूचना मिली थी कि हनीप्रीत दिल्ली में है और वह मंगलवार को पंचकुला की सीबीआई अदालत में सरेंडर करेंगी।

मंगलवार सुबह डीजीपी ने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की बैठक बुलाकर हनीप्रीत को अदालत में सरेंडर करने से पहले ही गिरफ्तार करने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए पुलिस ने व्यापक इंतजाम सुबह ही कर लिए थे।

अन्तर्राष्ट्रीय

1 जनवरी से लोगों को मिलने लगेगी रूस में बनी कोरोना की वैक्सीन

Published

on

नई दिल्ली। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मंगलवार को एलान किया कि उन्होंने कोरोना की वैक्सीन बना ली है। साथ ही उनकी बेटी को इसका टीका भी लग गया है। इसके बाद से लोगों के मन में एक ही सवाल था कि आम लोगों की पहुंच में ये दवा कब तक होगी।

बताया जा रहा है कि रूस में बनकर तैयार हुई कोविड-19 की वैक्सीन 1 जनवरी, 2021 से सिविलियन सकुर्लेशन में जाएगी यानि कि इसी दिन से इसकी पहुंच आम लोगों तक कराई जाएगी। रूसी स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको ने कहा कि यहां के माइक्रोबायोलॉजी रिसर्च सेंटर गेमालेया और रूसी रक्षा मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से विकसित कोविड-19 की वैक्सीन सबसे पहले चिकित्साकर्मियों और शिक्षकों को दी जाएगी।

उन्होंने कहा, “हम आम लोगों में चरणबद्ध तरीके से इसका उपयोग करना शुरू करेंगे। इसमें सबसे पहले उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी जो काम के सिलसिले में संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आते हैं और ये चिकित्सा कर्मी हैं और यह उन्हें भी पहले मुहैया कराई जाएगी जो बच्चों की सेहत के लिए जिम्मेदार हैं यानि कि शिक्षक।”

रूसी स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि वैक्सीन के उत्पादन के लिए गेमालेया रिसर्च सेंटर इंस्टीट्यूट और फार्मास्युटिकल कंपनी बिन्नोफार्म जेएससी इन्हीं दो जगहों का उपयोग किया जाएगा।

#corona #coronavaccine #russia

Continue Reading

Trending