Connect with us

नेशनल

इसरो के सपने नहीं भर सके उड़ान, प्राइवेट सेक्टर का बनाया सैटेलाइट असफल

Published

on

नई दिल्ली। पहली बार प्राइवेट कंपनियों की मदद से अंतरिक्ष की दुनिया में एक और छलांग लगाने की इसरो की कोशिश असफल रही। श्रीहरिकोटा से गुरुवार की शाम सात बजे जिस स्वदेशी नेविगेशन प्रणाली इंडियन रीजनल नेविगेशनल सैटेलाइट सिस्टम (आईआरएनएसएस यानी नाविक) श्रृंखला का आठवां उपग्रह आईआरएनएसएस-1एच को पीएसएलवी-सी39 से लांच किया गया लेकिन वो सफल नहीं हो पाया।

इसरो चेयरमैन ए एस किरण कुमार ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी जानकारी दी। कुमार ने कहा कि लॉन्च असफल रहा। उन्होंने कहा कि प्रक्षेपण के चौथे चरण में हीट शील्ड अलग नहीं हुआ।

देश की जीपीएस क्षमता में वृद्धि कर सकने वाले इस नेविगेशन उपग्रह ‘आईआरएनएसएस-1एच’ को पूरी तरह से बंगलुरु स्थित अल्फा डिजाइन टेक्नोलॉजी ने निर्मित किया था। नाविक श्रृंखला के तहत तैयार किया गया यह पहला उपग्रह था।

इस सैटेलाइट का नाम आईआरएनएसएस-1 एच था, जिसको बनाने में 6 प्राइवेट कंपनियों के ग्रुप का 25 फीसदी योगदान रहा। 1,425 किलोग्राम वजन के इस सैटेलाइट को श्रीहरिकोटा रॉकेट केंद्र से पीएसएलवी-सी 39 रॉकेट की मदद से छोड़ा गया। इसको बनाने में 1,420 करोड़ रुपये की लागत आई।

सैटेलाइट प्रक्षेपण के फेल होने पर इसरो चैयरमैन किरण कुमार ने कहा कि हमारे पास अब एक समस्या है और हम इसका गहन विश्लेषण करेंगे। कुमार ने कहा कि सैटेलाइट अंदर से तो अलग हो गया था, लेकिन यह हीट शील्ड के भीतर फंसा रह गया, जबकि प्रक्षेपण अपने चौथे चरण में था। इसकी वजह से मिशन नाकामयाब रहा।

नेशनल

विक्रम से संपर्क की उम्मीदें खत्म, इसरो ने देशवासियों के लिए कही ये बात

Published

on

नई दिल्ली। चंद्रमा पर रात होने के बाद अब भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की विक्रम लैंडर से संपर्क करने उम्मीद खत्म हो चुकी है। मंगलवार को इसरो ने देशवासियों से मिले अपार समर्थन के लिए सभी का धन्यवाद कहा।

यह इसरो का दूसरा चंद्र मिशन था जो कि आंशिक रूप से सफल हो सका। इस मिशन को आंशिक रूप से सफल इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि चांद की सतह से मजह 2.1 किमी की ऊंचाई से इसका संपर्क इसरो केंद्र से टूट गया था।

संपर्क टूटने के बाजजूद देशवासियों और खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसरो की हौसलाफजाई की थी। जिससे खुश होकर इसरो ने मंगलवार शाम को ट्वीट करते हुए सभी का धन्यवाद किया।

इसरो ने ट्वीट कर कहा, ‘हमारे साथ खड़े रहने के लिए आपका शुक्रिया। हम दुनियाभर में सभी भारतीयों की आशाओं और सपनों को पूरा करने की कोशिश करते रहेंगे। हमें प्रेरित करने के लिए शुक्रिया।’

इस मिशन को लेकर अच्छी खबर यह है कि ऑर्बिटर लगातार चंद्रमा के चक्कर काट रहा है और उसकी तस्वीरें भेज रहा है। इसरो के मुताबिक ऑर्बिटर 7 साल तक चांद का चक्कर इसी तरह काटने में सक्षम है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending