Connect with us

हेल्थ

दिल की बीमारियों से जूझ रहे बच्चों के लिए पहल

Published

on

गुरुग्राम, 20 अगस्त (आईएएनएस)| दिल की बीमारियों के शिकार निर्धन तबके के बच्चों के इलाज में लगी संस्था जेनेसिस फाउंडेशन की पहल पर आयोजित 20वें ‘सीईओज सिंग फॉर जीएफ किड्स’ कार्यक्रम में कई बड़ी कपंनियों के प्रमुखों व मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) ने गाने गाए।

इस कार्यक्रम का मकसद दिल की बीमारियों से जूझ रहे वंचित वर्ग के बच्चों को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराना था। साल 2010 में इस मुहिम की शुरुआत हुई थी, तब से इस मकसद के लिए धन जुटाने के उद्देश्य से लगातार इसका आयोजन हो रहा है, जहां कंपनी प्रमुख गाने गाते हैं।

कार्यक्रम में आईबस नेटवर्क के चेयरमैन संजय कपूर, प्रिज्म कंस्लटिंग के संस्थापक सीईओ शीरीष जोशी, टीम कंप्यूटर्स के सीईओ रंजन चोपड़ा, लर्निग पाम के अध्यक्ष अतुल आहूजा, वोडाफोन इंडिया के डायरेक्टर (रेगुलेटरी, एक्सटर्नल अफेयर्स व सीएसआर) पी. बालाजी, ऑल्ट्रन टेक्नोलॉजीज इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ संजीव वर्मा, नैपीनो ऑटो एंड इलेक्ट्रानिक्स लिमिटेड के सीएमडी विपिन रहेजा, रनवीक एक्सपोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के एम डी विकास गुप्ता आदि शामिल हुए।

इस मौके पर जेनेसिस फाउंडेशन की संस्थापक प्रेमा सागर ने कहा, पिछले कुछ सालों में इस कार्यक्रम ने जो सफर तय किया है वह सच में यादगार है। एक छोटे से कार्यक्रम से लेकर बड़े स्तर पर संगीत कार्यक्रम का आयोजन..जिसे हम आज देख रहे हैं, वास्तव में सुखद है कि हमने किस तरह से यह सफर तय किया है। लेकिन, आगे का सफर आसान नहीं होगा, अभी बहुत कुछ करना बाकी है। कई नन्हें बच्चों का दिल धड़कने के लिए एक मौके के इंतजार में है और हमें इस लड़ाई को लड़ने के लिए और ज्यादा लोगों से जुड़ने की जरूरत है।

इस मौके पर मॉनस्टर डॉट कॉम (मध्य पूर्व) के प्रबंध निदेशक संजय मोदी ने कहा कि मॉन्स्टर कई सालों से जेनेसिस फाउंडेशन के साथ जुड़ा है। अलग-अलग उद्योगों के सीईओ संगीत और नन्हें दिलों की रक्षा करने के उद्देश्य से आए हैं। औद्योगिक घरानों के प्रमुखों को इस नेक काम से जुड़ते देखकर खुशी हो रही है।

Continue Reading

लाइफ स्टाइल

Condom पहन कर संबंध बनाने से Girlfriend को होती है ये तकलीफ, बढ़ जाती…

Published

on

Condom

Condom का इस्तेमाल अक्सर लोग तब करते हैं जब उन्हें बच्चे की चाह नहीं होती। इतना ही नहीं AIDS के खतरे से बच सकें इसलिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। बहुत से मौकों पर ऐसा होता है कि हम इसे पहनने का सही तरीका नहीं अपना पाते जो हमारे जीवनसाथी और या गर्लफ्रेंड के लिए खतरनाक साबित हो सकता है।
गलत तरीके से कंडोम पहनने से आपके पार्टनर को नुकसान हो सकता है, लेकिन हम ध्यान नहीं देते। इसलिए जल्दी में गलत तरीके से इसे पहनने से गर्लफ्रंड या जीवनसाथी को तकलीफों से गुजरना पड़ सकता है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत देश में ज्यादातर लोग इसे पहनने का सही तरीका नहीं जानते हैं, जिसके कारण उन्हें काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। क्या आप जानते हैं इससे महिलाओं पर भी काफी बुरा असर पड़ता है इसीलिए आज हम आप सभी को बताने जा रहे हैं कि इसे पहनने का सही तरीका क्या है।

कंडोम पहनने का सही तरीका-

1.ऐसे देखा जाता है कि लोग कंडोम के पैकेट को तुरंत ही फाड़कर इसे पहन लेते हैं जोकि ग़लत है, क्योंकि इसके पैकेट में आगे की तरफ हवा भरी होती है इसलिए ज़रूरी है कि पहनने से पहले इसकी हवा जरूर निकाल दें अगर आप ऐसा करेंगे तो आप कंडोम को सही तरीके से पहन पाएंगे।

2.कंडोम पहनने से पहले इसे एक बार अच्छे तरीके से चेक जरूर करें। क्योंकि कई बार पैकेट से फटे हुए भी निकल आते हैं जिसकी वजह से अनचाहे गर्भ का खतरा 30% तक बड़ जाता है। इसीलिए हमेशा इस चीज पर ध्यान दें और कभी भी फटे कंडोम का इस्तेमाल ना करें।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending