Connect with us

हेल्थ

दिल की बीमारियों से जूझ रहे बच्चों के लिए पहल

Published

on

गुरुग्राम, 20 अगस्त (आईएएनएस)| दिल की बीमारियों के शिकार निर्धन तबके के बच्चों के इलाज में लगी संस्था जेनेसिस फाउंडेशन की पहल पर आयोजित 20वें ‘सीईओज सिंग फॉर जीएफ किड्स’ कार्यक्रम में कई बड़ी कपंनियों के प्रमुखों व मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) ने गाने गाए।

इस कार्यक्रम का मकसद दिल की बीमारियों से जूझ रहे वंचित वर्ग के बच्चों को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराना था। साल 2010 में इस मुहिम की शुरुआत हुई थी, तब से इस मकसद के लिए धन जुटाने के उद्देश्य से लगातार इसका आयोजन हो रहा है, जहां कंपनी प्रमुख गाने गाते हैं।

कार्यक्रम में आईबस नेटवर्क के चेयरमैन संजय कपूर, प्रिज्म कंस्लटिंग के संस्थापक सीईओ शीरीष जोशी, टीम कंप्यूटर्स के सीईओ रंजन चोपड़ा, लर्निग पाम के अध्यक्ष अतुल आहूजा, वोडाफोन इंडिया के डायरेक्टर (रेगुलेटरी, एक्सटर्नल अफेयर्स व सीएसआर) पी. बालाजी, ऑल्ट्रन टेक्नोलॉजीज इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ संजीव वर्मा, नैपीनो ऑटो एंड इलेक्ट्रानिक्स लिमिटेड के सीएमडी विपिन रहेजा, रनवीक एक्सपोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के एम डी विकास गुप्ता आदि शामिल हुए।

इस मौके पर जेनेसिस फाउंडेशन की संस्थापक प्रेमा सागर ने कहा, पिछले कुछ सालों में इस कार्यक्रम ने जो सफर तय किया है वह सच में यादगार है। एक छोटे से कार्यक्रम से लेकर बड़े स्तर पर संगीत कार्यक्रम का आयोजन..जिसे हम आज देख रहे हैं, वास्तव में सुखद है कि हमने किस तरह से यह सफर तय किया है। लेकिन, आगे का सफर आसान नहीं होगा, अभी बहुत कुछ करना बाकी है। कई नन्हें बच्चों का दिल धड़कने के लिए एक मौके के इंतजार में है और हमें इस लड़ाई को लड़ने के लिए और ज्यादा लोगों से जुड़ने की जरूरत है।

इस मौके पर मॉनस्टर डॉट कॉम (मध्य पूर्व) के प्रबंध निदेशक संजय मोदी ने कहा कि मॉन्स्टर कई सालों से जेनेसिस फाउंडेशन के साथ जुड़ा है। अलग-अलग उद्योगों के सीईओ संगीत और नन्हें दिलों की रक्षा करने के उद्देश्य से आए हैं। औद्योगिक घरानों के प्रमुखों को इस नेक काम से जुड़ते देखकर खुशी हो रही है।

Continue Reading

ऑफ़बीट

इस ब्लड ग्रुप के लोग हो जाएं बेफ़िक्र, कुछ भी खाएं कभी नहीं होगा हार्ट अटैक

योगेश मिश्रा

Published

on

नई दिल्ली। आज-कल का समय ही कुछ ऐसा है कि हर किसी को कोई न कोई बीमारी ने घेर रखा है। किसी को हार्ट की बीमारी है तो किसी को ब्लड प्रेशर, डायबिटीज़ जैसी गंभीर बीमारियाँ। ऐसे में अगर आपको पता चले कि आप हार्ट अटैक जैसी बीमारी से सुरक्षित हैं तो कितनी ख़ुशी और सुकून वाली बात होगी। ऐसा सबके साथ नहीं हो सकता, ये सिर्फ एक विशेष ब्लड ग्रुप वालो के साथ होता है।

यूएस के यूटा में इंटरमाउंटेन हार्ट इंस्टीट्यूट के विशेषज्ञ जामिन हॉर्न के एक अध्ययन में यह बात पता चला है कि जिन लोगों का ब्लड ग्रुप A, B या AB है उनके अंदर वायु प्रदूषण से हार्ट अटैक का खतरा अधिक होता है, जबिक O ब्लड ग्रुप वालों को यह खतरा नहीं होता है। जब प्रदूषण 25 माइक्रोग्राम/घन मीटर के निशान से ऊपर होता है, तब यह O ब्लड ग्रुप के अलावा अन्य ग्रुप के लिए खतरा होता है। कुछ डॉक्टरों ने तो यहां तक कह दिया कि O ब्लड ग्रुप वालों को हार्ट अटैक आता ही नहीं है। जबकि ऐसा नहीं है। बहुत अधिक वायु प्रदूषण हो जाए तब O बल्ड टाइप को भी हार्टअटैक और चेस्ट पेन का खतरा रहता है।

आनुवंशिक अध्ययनों में पाया गया कि, O ब्लड टाइप को कम खतरा है जबकि अन्य तीन को अधिक खतरा है। हालांकि हार्ट अटैक व प्रदूषण के असर के चलते अन्य ब्लड टाइप को अधिक परेशान होने की ज़रूरत नहीं है, बस उन्हें जागरूक होना चाहिए।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending