Connect with us

नेशनल

FB पोस्ट को लेकर पश्चिम बंगाल में भडक़ी हिंसा, बीएसएफ के 400 जवान तैनात

Published

on

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के 24 परगना जिले में फेसबुक पोस्ट को लेकर भडक़ी सांप्रदायिक हिंसा के बाद केंद्र सरकार ने मंगलवार को यहां 400 अर्द्धसैन्य बल और बीएसएफ जवानों को हालात पर काबू पाने के लिए भेजा है। फेसबुक पर पोस्ट डालने वाले बदुरिया के 17 साल के छात्र को गिरफ्तार भी कर लिया गया है।

पुलिस ने बताया कि बसीरहाट अनुमंडल के बदुरिया में दो समुदायों के सदस्यों के बीच मंगलवार रात पोस्ट को लेकर झड़पें शुरू हुईं। उसके बाद लगातार हालात बिगड़ते चले गए। परिणामस्वरूप बसीरहाट, स्वरूपनगर, बदुरिया और देगंगा में बीएसएफ की चार कंपनियों को तैनात किया गया है। इसके अलावा इलाके में इंटरनेट सेवा बिल्कुल बंद कर दी गई है और धारा 144 लगाई गई है।

हिंसा की वजह एक फेसबुक पोस्ट थी जिसमें पैगम्बर मुहम्मद के बारे में आपत्तिजनक टिप्पणी की गई थी। इस पोस्ट से नाराज भीड़ ने कई स्थानों पर सडक़ों को जाम कर दिया और दूसरे समुदाय के लोगों पर हमला किया तथा कुछ घरों को आग के हवाले कर दिया।

वहीं कोलकाता पुलिस ने ट्वीट कर लोगों से अफवाहें न फैलाने की अपील की है। इस घटना के बाद पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। जगह-जगह पुलिस और अर्द्धसैन्य बल के जवान गश्त लगा रहे हैं। साथ ही संदिग्ध लोगों को देखते ही हिरासत मे लिया जा रहा है।

नेशनल

सीएबी पर पाकिस्तान की भाषा बोल रही कांग्रेस: मोदी

Published

on

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कांग्रेस और कुछ विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधा और कहा कि ये लोग नागरिकता (संशोधन) विधेयक, 2019(सीएबी) को लेकर पाकिस्तान की भाषा में बात कर रहे हैं। मोदी ने यह बयान संसद के पुस्तकालय भवन में भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) की संसदीय दल की बैठक में दिया।

बैठक के बाद दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने पत्रकारों से कहा, “लोग संसद में सीएबी पर कांग्रेस के रुख पर अलग-अलग राय दे रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने संसदीय दल की बैठक में इसे एक वाक्य में स्पष्ट कर दिया। उन्होंने कहा कि कुछ राजनीतिक पार्टियां पाकिस्तान की भाषा में बात कर रही हैं।”

उन्होंने कहा, “यहां तक कि पूर्णविराम और कामा भी समान है। हमें सीएबी विधेयक के बारे में भारत के लोगों को जानने देना चाहिए। प्रधानमंत्री का एक वाक्य का बयान यह साबित करने के लिए काफी है कि कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस की सोच क्या है।” इससे पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने नागरिकता(संशोधन) विधेयक, 2019 को ‘नरेंद्र मोदी-अमित शाह सरकार द्वारा पूर्वोत्तर में जातीय सफाया करने का प्रयास बताया’ और कहा कि यह लोगों पर ‘आपराधिक हमला’ है।

राहुल ने ट्वीट किया, “सीएबी मोदी-शाह सरकार द्वारा पूर्वोत्तर में जातीय सफाये का प्रयास है। यह पूर्वोत्तर पर, वहा के लोगों के जीवन के तौर-तरीके पर और भारत के विचार पर एक आपराधिक हमला है। मैं पूर्वोत्तर के लोगों के साथ खड़ा हूं और उनकी सेवा में तत्पर हूं।” मोदी लोकसभा में इस विधेयक के पारित होने के दो दिन बाद यहां भाजपा संसदीय दल की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।

सीएबी के तहत पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से उत्पीड़न झेल कर यहां आए हिंदुओं, ईसाइयों, सिखों, पारसियों, जैनियों और बौद्धों को भारतीय नागरिकता दिए जाने का प्रावधान है। विपक्ष ने विधेयक को ‘असंवैधानिक’ बताकर इसका विरोध किया है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending