Connect with us

मुख्य समाचार

जाधव मामले में पाकिस्‍तान को तगड़ा झटका, आईसीजे ने रोकी फांसी

Published

on

कुलभूषण जाधव, आईसीजे, फांसी,

द हेग।  अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय ने गुरुवार को पाकिस्तान की सैन्य अदालत की ओर से भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को कथित जासूसी मामले में सुनाई गई मौत की सजा पर फिलहाल रोक लगा दी है।

आईसीजे ने गुरुवार को मामले पर फैसला सुनाते हुए कहा कि जाधव मामले में सुनवाई करने का अधिकार अंतर्राष्ट्रीय अदालत के पास है। कोर्ट ने कहा कि दोनों ही पक्षों को इस आदेश को मानना है। दोनों ही देशों पर विएना समझौते के तहत यह आदेश बाध्यकारी है।

कुलभूषण जाधव, आईसीजे, फांसी,

आईसीजे ने साथ ही यह भी कहा कि जाधव से राजनयिक संपर्क की भारत की मांग जायज है। कोर्ट ने एकमत होकर कहा कि फैसला आने से पहले पाकिस्तान यह आश्वासन देगा कि पाकिस्तान कुलभूषण जाधव को फांसी नहीं देगा। अंतरराष्ट्रीय मंच पर भारत की यह बड़ी कूटनीतिक जीत है। वहीं, कोर्ट ने भारत को कुलभूषण जाधव तक पहुंच पर पाकिस्तान को बाध्यकारी नहीं माना।

नीदरलैंड के हेग में स्थित इस कोर्ट में फैसला सुनाते हुए जज ने कहा कि भारत की ओर से इस केस में जिन अधिकारी की बात कही है वह सही जान पड़ती है। कोर्ट ने कहा कि भारत की मांग उचित दिखाई पड़ती है। कोर्ट ने कहा कि अगस्त तक फांसी नहीं दिए जाने की बात पाकिस्तान ने कही थी।

कोर्ट के फैसले से पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है। कोर्ट ने कहा कि विएना समझौते के तहत भारत को कुलभूषण जाधव तक पहुंच का हक है। इससे पहले कोर्ट ने कहा कि दोनों पक्षों की दी गई महत्वपूर्ण दलीलों को दोहराया। दोनों देशों पर किए गए दावों पर कोर्ट ने गौर किया। कोर्ट ने कहा कि भारत और पाकिस्तान विएना समझौता का हिस्सा है। कोर्ट ने कहा कि अदालत के पास भारत के दावे को स्वीकारने का हक है

वहीं, महाराष्ट्र के पवई में कुलभूषण जाधव के घर के बाहर लोगों ने भारत माता की जय के नारे लगाए और पटाखे फोड़े। इस मामले में अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा कि यह भारत की जीत है।

कोर्ट ने सोमवार को भारत-पाकिस्तान की दलील सुनने के बाद कोर्ट ने अपना फ़ैसला सुरक्षित रख लिया था। भारत की ओर से वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने दमदार दलील रखते हुए कुलभूषण की फांसी की सज़ा को तत्काल रद्द किए जाने की मांग की थी।

पाकिस्तान की ओर से कुलभूषण का काउंसलर एक्सेस न देने को भारत ने वियना कन्वेंशन का उल्लंघन बताया था। साथ ही पाकिस्तान की मिलिट्री कोर्ट में कुलभूषण पर चले केस को न्याय का मज़ाक़ बताया था। वहीं, पाकिस्तान की दलील थी कि ये मामला अंतरराष्ट्रीय कोर्ट का नहीं है, भारत इसे राजनीति का रंगमंच बना रहा है।

प्रादेशिक

हैदराबाद गैंगरेप केसः पुलिस ने चारों आरोपियोंं को एनकांउटर में किया ढेर

Published

on

नई दिल्ली। हैदराबाद गैंगरेप के चारों आरोपियों को पुलिस ने एनकांउटर में मार गिराया है। पुलिस के मुताबिक आरोपियों को वारदात वाली जगह ले जाया जा रहा था जहां चारों ने मौका-ए-वारदात से भागने की कोशिश की जिसके बाद पुलिस ने एनकांउटर में उन्हें मार गिराया।

यह एनकाउंटर नेशनल हाइवे-44 के पास हुआ। पुलिस आरोपियों को एनएच-44 पर क्राइम सीन रिक्रिएट कराने के लिए लेकर गई थी। बता दें कि हैदराबाद के बाहरी इलाके शमशाबाद में 27 नवंबर की रात को चार ट्रक ड्राइवरों और क्लीनर ने मिलकर महिला डॉक्टर के साथ गैंगरेप और जलाकर मारने जैसे अपराध को अंजाम दिया था। इस घटना के बाद से दोषियों को जल्द से जल्द फांसी की मांग को लेकर देश भर में प्रदर्शन हो रहे थे।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending