Connect with us

ऑफ़बीट

सेहतमंद रहने के लिए आर्गेनिक साबुन और शैम्पू का करिए प्रयोग

Published

on

हानिकारक केमिकल युक्त साबुन और शैम्पू से हमारी त्वचा और बालों को नुकसान पहुंचता है। ऐसे में आर्गेनिक (जैविक) साबुन और शैम्पू का इस्तेमाल करना चाहिए, जो प्राकृतिक खूबसूरती को बरकरार रखता है। सोलफ्लॉवर के प्रबंध निदेशक अमित सारदा और वर्ट की संस्थापक अनुपमा मल्होत्रा (दोनों कंपनियां प्राकृतिक सौंदर्य उत्पादों का उत्पादन करती हैं) ने आर्गेनिक साबुन और शैम्पू के इस्तेमाल से होने वाले फायदों के बारे में ये बातें बताई हैं।

UP Board Result Live : 10th और 12th की परीक्षा के नतीजे आज होंगे घोषित

– आर्गेनिक शैम्पू और साबुन धुआं मुक्त वातावरण में बनाए जाते हैं। 100 प्रतिशत वेजिटेरियन होते हैं, इसमें पशुओं की चर्बी का इस्तेमाल नहीं होता है।

–आर्गेनिक उत्पाद फलों या फूलों के सत्व से तैयार किए जाते हैं और इनमें हानिकारक केमिकल नहीं होते, इसलिए प्राकृतिक उत्पादों के इस्तेमाल से किसी प्रकार का नुकसान होने की आशंका नहीं होती है।

–कन्वेंशनल (सामान्य तौर पर प्रयोग किए जाने वाले उत्पाद) साबुन और शैम्पू प्रभावी महसूस हो सकते हैं, लेकिन उनके पैक पर लिखी सामग्री को पढ़ने के बाद आपको मालूम पड़ेगा कि ये वास्तव में कितने हानिकारक हैं। इन उत्पादों में सोडियम लॉरेल सल्फेट का धड़ल्ले से इस्तेमाल होता है, जो त्वचा व शरीर को काफी नुकसान पहुंचाता है।

–हानिकारक पेस्टिसाइड ट्रिक्लोजन और डायोक्सिन जैसे हानिकारक रसायन भी वास्तव में धीरे-धीरे और स्थायी रूप से आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचाते हैं।

–पशुओं पर उनका परीक्षण नहीं किया जाता है।

– कन्वेंशनल और आर्गेनिक उत्पादों की सामग्री और गुणवत्ता में काफी अंतर होता है। प्राकृतिक पोषण तत्वों, मिनरल्स और तेलों से भरपूर आर्गेनिक उत्पाद आपके बालों और त्वचा की कोशिकाओं को पोषित करते हैं।

–प्राकृतिक अवयवों से युक्त आर्गेनिक ‘टी ट्री’ रूसी को दूर करता है।

 

ऑफ़बीट

आचार्य स्मृति दिवस 2020 : पद्मश्री सुधा वर्गीज को मिला युग प्रेरक सम्मान, गीतकार मनोज मुंतशिर का हुआ नागरिक अभिनंदन

Published

on

By

रायबरेली। हिन्दी साहित्य के युग पुरुष आचार्य महाबीर प्रसाद द्विवेदी की स्मृति में आचार्य महाबीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति के संयोजन में आचार्य स्मृति दिवस का आयोजन हुआ। शनिवार को फीरोज गांधी कालेज के सभागार में आयोजित इस भव्य कार्यक्रम में विभिन्न क्षेत्रों में ख्यातिप्राप्त विभूतियों का सम्मान और नागरिक अभिनंदन हुआ। विभूतियों ने समारोह आचार्य महाबीर प्रसाद द्विवेदी की साहित्य साधना को अपने संबोधन में रेखांकित किया। विभूतियों और अतिथियों ने आचार्य पथ स्मारिका, कहानी संग्रह आकाश में कोरोना घना है, 40 साल बाद पुन: प्रकाशित की गई पत्रिका सरस्वती का विमोचन भी किया। संचालन आंचल मिश्रा अवस्थी ने किया। इससे पूर्व कार्यक्रम का शुभारंभ पर सभी अतिथियों ने मां सरस्वती और आचार्य के चित्र पर दीप जलाए और पुष्प माला चढ़ाई। अध्यक्ष विनोद शुक्ल ने समिति की रूपरेखा प्रस्तुत की।

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी

समारोह में विभूतियों का हुआ अभिनंदन और सम्मान

आचार्य स्मृति दिवस के सम्मान समारोह सत्र में सुप्रसिद्ध विभूतियों का सम्मान एवं नागरिक अभिनंदन किया गया। उनके परिचय के साथ विभूतियों ने अपने विचार भी साझा किए। वर्ष 2019 का सम्मान पत्र सुश्री ऐश्वर्या सिन्हा को दिया गया। एसपी श्लोक कुमार ने सभी विभूतियों को प्रतीक चिन्ह और सम्मान पत्र प्रदान किए। विशेष प्रतीक चिन्ह और सम्मान पत्र समाजसेवी मुकेश बहादुर सिंह ने प्रदान किए।

 

युग प्रेरक सम्मान से नवाजी गईं पद्मश्री सुधा वर्गीज

समारोह में पटना की प्रख्यात सामाजिक कार्यकर्ता साइकिल वाली दीदी के नाम से ख्यातिप्राप्त पद्मश्री से सम्मानित सुधा वर्गीज कोआचार्य महाबीर प्रसाद द्विवेदी युग प्रेरक सम्मान से नवाजा गया। डॉ. अमिता खुबेले ने उनका परिचय प्रस्तुत किया। डॉ. प्रज्ञा अवस्थी, डॉ. रुचि सिंह और शालिनी द्विवेदी ने सहयोग प्रदान किया।

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी

 

सरस्वती के संपादक को डॉ. राम मनोहर त्रिपाठी लोक सेवा सम्मान

40 वर्ष बाद पुन: प्रकाशित हुई सरस्वती के संपादक प्रोफेसर देवेंद्र शुक्ला एवं सहायक संपादक अनुपम परिहार को डॉ. राम मनोहर त्रिपाठी लोक सेवा सम्मान नवाजा गया। राजीव भार्गव ने संपादकगणों का परिचय प्रस्तुत किया। सुनील मिश्र, करुणाशंकर मिश्र और राजेश वर्मा ने सहयोग प्रदान किया।

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी

गीतकार मनोज मुंतशिर का हुआ नागरिक अभिनंदन

फिल्म गीतकार एवं अमेठी के निवासी मनोज मुंतशिर का नागरिक अभिनंदन किया गया। विनय द्विवेदी ने उनका परिचय प्रस्तुत किया। अनुराग त्रिपाठी, नीरज सोनी, विनोद शुक्ला, प्रमोद अवस्थी ने उनका माल्यार्पण किया और अंगवस्त्र भेंट किए।

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी

प्रेम प्रकाश को मिला प्रभाष जोशी स्मृति पत्रकारिता सम्मान

प्रभाष जोशी स्मृति पत्रकारिता सम्मान जनसत्ता नई दिल्ली के वरिष्ठ पत्रकार प्रेम प्रकाश को प्रदान किया गया। घनश्याम मिश्र ‘घन्नू’ ने उनका परिचय दिया। पत्रकारिता जगत के स्तंभ प्रभाष जोशी सभी पत्रकारों के लिए अनुकरणीय और आदरणीय हैं। आज भले ही वे हमारे बीच नहीं हैं, उनकी शिक्षाएं और उपलब्धियां हमारे बीच जीवंत हैं।

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी

मेधावी अर्चना को मिला शिवानंद मिश्र लाले सम्मान

शिवानंद मिश्र लाले सम्मान यूपी बोर्ड की इंटर की परीक्षा में जिले की टॉपर बाल विद्या मंदिर गंगागंज की मेधावी छात्रा अर्चना कुमारी को प्रदान किया गया। परिचय में डॉ. चंद्रमणि वाजपेयी ने कहा कि अर्चना ने वरीयता सूची में अपना नाम शामिल कराकर अपने स्कूल, माता पिता तथा जिले का नाम रोशन किया है। मुक्ता भार्गव, डॉ. गीता कुमार और क्षमता मिश्रा ने उत्साहवर्धन किया।

 

 

कोरोना प्रोटोकॉल का हुआ पालन, आमंत्रण पत्र से मिला प्रवेश

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए कार्यक्रम में कोरोना प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन हुआ। एक-एक व्यक्ति की स्क्रीनिंग हुई और आमंत्रण पत्र से ही प्रवेश दिया गया।

Continue Reading

Trending