Connect with us

मुख्य समाचार

नसीमुद्दीन ने मायावती पर फोड़ा आरोपों का ‘महाबम’, बोले–50 करोड़ मांगते हुए प्रॉपर्टी बेचने को कहा   

Published

on

बसपा, नसीमुद्दीन सिद्दीकी, मायावती, बहुजन समाज पार्टी

लखनऊ।  यूपी के पूर्व कैबिनेट मंत्री एवं बहुजन समाज पार्टी (बसपा) से निकाले गए नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि मुझे झूठे आरोप लगाकर पार्टी से निकाला गया। मायावती ने मुझे काफी बुरा भला कहा। मैंने मायावती को लोकसभा चुनावों में बसपा की हार के कारणों के बारे में बताया था जिस पर वह नाराज हो गई थीं। यही नहीं मायावती ने मुझसे यह कहते हुए पैसे मांगे थे कि पार्टी को 50 करोड़ रुपये की जरूरत है।

बसपा, नसीमुद्दीन सिद्दीकी, मायावती, बहुजन समाज पार्टी

मैंने कहा कि मैं कहां से लाऊं तो बोलीं अपनी प्रॉपर्टी बेच दो। मैंने कहा कि अगर मैं अपनी प्रॉपर्टी बेच भी दूंगा तो 50 करोड़ का चौथाई भी हो जाए तो बड़ी बात है। मैंने ये भी कहा कि नोटबंदी के बाद अगर प्रॉपर्टी बेचूंगा तो भी कैश नहीं मिलेगा, लेकिन पार्टी हित के लिए मैं ये करने को भी तैयार हूं।

यह भी पढ़ें– मायावती ने मुसलमानों को गद्दार कहा : नसीमुद्दीन

नसीमुद्दीन ने दावा किया कि मैंने रिश्तेदारों, पार्टी के कुछ लोगों से मदद मांगी और कहा कि मेरी प्रॉपर्टी बेचवा दो। कुछ पैसा जुटा कर फोन किया तो कहा कि पूरे पैसे चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘मायावती का फोन आता रहा पैसा मांगती रहीं। कहा कि पूरे प्रदेश से मेंब‍रशिप की किताब अपने पैसे से लाओ। प्रत्यशियों से बचे पैसे लाओ। तभी मुझे अंदाजा हो गया था कि मुझे पार्टी से निकाला जाएगा।’ उन्होंने अपना दर्द व्यक्त करते हुए कहा कि जिस पार्टी के लिए मैंने अपनी बेटी कुर्बान कर दी वह कैसे छोड़ कर चला जाता।
बसपा के पूर्व नेता ने कहा, ‘मायावती मुसलमानों को उल्टा-सीधा बोलने लगीं और कहा कि मुसलमान गद्दार हैं। मायावती ने कहा कि दाढ़ी वाले कुत्ते मेरे पास आया करते थे।’ सिद्दीकी ने आगे कहा, ‘जब मैंने विरोध जताया तो उन्होंने आवाज नीची कर ली और कहा कि पिछड़ी और अगड़ी जाति के लोगों ने भी हमें वोट नहीं दिया। जब मैंने कहा कि किसी ने हमें वोट नहीं दिया तो इस पर हम क्या कर सकते हैं। इसके बाद वह पिछड़ी जाति के लोगों को भी भला-बुरा कहने लगीं।’

सिद्दीकी ने मायावती पर बसपा संस्थापक कांशीराम को भी अपमानित करने का आरोप लगाया। सिद्दीकी ने कहा, ‘मायावती ने 19 अप्रैल के अपने भाषण में कहा कि जब 2002 में यूपी और पंजाब में विधानसभा चुनाव साथ हुए तो कांशीराम यूपी का सारा पैसा पंजाब लेकर चले गए और मुझसे कहा कि मैं पंजाब में सरकार बनाकर लौटूंगा। यूपी तुम्हारी जिम्मेदारी है। यूपी में हम 100 का आंकड़ा पार कर गए और कांशीराम पंजाब में खाता भी नहीं खोल पाए।’

सिद्दीकी ने बयान में कहा है, ‘मैं समझता हूं कि इस निष्कासन से मेरे व मेरे परिवार की और मेरे सहयोगियों की बहुजन समाज पार्टी में 34-35 साल की कुबार्नी का सिला मुझे दिया गया है।

नसीमुद्दीन ने आरोप लगाया, ‘मायावती, उनके भाई आनंद कुमार और सतीश चंद्र मिश्रा द्वारा अवैध रूप से, अनैतिक रूप से और मानवता से परे कई बार ऐसी मांगें की गईं, जो मेरे बस में नहीं थीं। कई बार मुझे मानसिक प्रताड़ना दी गई, टार्चर किया गया। जिसके पुख्ता प्रमाण मेरे पास हैं।’

नसीमुद्दीन ने कहा, ‘2009 और 2014 के लोकसभा चुनाव और 2012 व 2017 के विधानसभा चुनाव में पार्टी को मायावती की गलत नीतियों के कारण सफलता नहीं मिली। उन्होंने मुसलमानों पर गलत झूठे आरोप लगाए।’

उन्होंने कहा, ‘2017 के चुनाव से काफी पहले से मैंने पार्टी के लिए जो प्रयास किए, उसी का नतीजा था कि बसपा को 22 प्रतिशत से अधिक वोट मिले। नहीं तो स्थिति और बदतर होती। बता दें कि अपने आरोपों को पुख्‍ता करने के लिए नसीमुद्दीन ने पत्रकारों को आडियो टेप भी सुनाए थे। इनमें उनकी और मायावती की बातचीत को सुनाया गया था। पूर्व मंत्री का दावा है कि उनके पास करीब 150 आडियो
टेप हैं।

नेशनल

वाराणसी के गैर सरकारी संगठनों से पीएम ने की सीधी बात, पूछा हालचाल

Published

on

By

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के गैर सरकारी संगठनों के प्रतिनिधियों से बातचीत कर रहे हैं। इस बैठक में वो कोरोना वायरस संकट के कारण लागू लॉकडाउन के दौरान उनकी तरफ खाद्यान्न वितरण एवं अन्य सहायता पहुंचाने संबंधी प्रयासों के बारे में चर्चा कर रहे हैं।

स्पेशल रिपोर्ट : मध्य प्रदेश के उज्जैन से गिरफ्तार हुआ आठ पुलिस वालों का हत्यारा विकास दुबे

उन्होंने कहा कि हजारों लोगों ने काशी के गौरव को बढ़ाया है। सैकड़ों संस्थाओं ने अपने आप को खपा दिया है। सबसे मैं बात नहीं कर पाया हूं, लेकिन मैं हर किसी के काम को आज नमन करता हूं। सेवाभाव से जुड़े हुए हर व्यक्ति को मैं प्रणाम करता हूं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  ने कहा आज जब मैं आपसे बात कर रहा हूं, तब आपसे केवल जानकारी नहीं ले रहा हूं, बल्कि आप सबसे प्रेरणा ले रहा हूं। अधिक काम करने के लिए, आप जैसे लोगों ने इस संकट में काम किया, इनके आशीर्वाद ले रहा हूं।

कोरोना के इस संकट काल ने दुनिया के सोचने-समझने, काम-काज करने, खाने-पीने सबके तौर-तरीके पूरी तरह से बदल दिए हैं। जिस प्रकार से आपने सब ने सेवा की, इस सेवा का समाज जीवन पर बड़ा प्रभाव पड़ता है।

कबीरदास जी ने कहा है- ‘सेवक फल मांगे नहीं, सेब करे दिन रात’ अर्थात – सेवा करने वाला सेवा का फल नहीं मांगता, दिन रात निःस्वार्थ भाव से सेवा करता है। दूसरों की निस्वार्थ सेवा के हमारे यही संस्कार हैं, जो इस मुश्किल समय में काम आ रहें हैं।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा।

#Narendramodi #varanasi #pmmodi #Uttarpradesh

 

Continue Reading

Trending