Connect with us

मुख्य समाचार

लोकसभा में जीएसटी विधेयकों पर चर्चा

Published

on

लोकसभा, जीएसटी विधेयकों, केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली, जीएसटी परिषद, जीएसटी

नई दिल्ली | केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को लोकसभा में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) से संबंधित चार विधेयक पेश किए, उसके बाद विधेयकों पर चर्चा शुरू हुई। जेटली ने विधेयकों को पेश करते हुए कहा, “इन चारों विधेयकों को एक साथ पेश किया जा रहा है, क्योंकि विधेयकों की विषयवस्तु एक जैसी ही है।”

लोकसभा, जीएसटी विधेयकों, केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली, जीएसटी परिषद, जीएसटी

उन्होंने कहा, “अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था के तहत संविधान संशोधन से पहले केंद्र के पास कुछ करों को लागू करने का अधिकार था। एकीकृत कर प्रणाली पर लंबे समय से चर्चा होती रही है, जिसके तहत राज्य और केंद्र सरकार संग्रहित कर को साझा करेंगे।”

उन्होंने कहा, “जीएसटी परिषद पहला संघीय संस्थान है। हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि यह संघीय संस्था काम करे। इसमें केंद्र और राज्यों का संतुलित मेलजोल है, जबकि हम परिषद को सुझाव देने के लिए मुक्त है। एक ही समय पर हमें संघीय ढांचे को सम्मान देने की भी जरूरत है।”

जीएसटी को एक जुलाई से देशभर में लागू किया जाना है। इसके पंजीकरण, भुगतान, रिटर्न्‍स और इनवॉयस रिफंड से संबंधित नियमों को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है। इसके बाकी नियमों पर 31 मार्च को जीएसटी परिषद में चर्चा होगी।

गौरतलब है कि बुधवार को संसद के निचले सदन में केंद्रीय वस्तु एवं सेवा कर (सीजीएसटी) सहित तीन अन्य जीएसटी विधेयकों को चर्चा के लिए पेश किया गया। जेटली ने कहा कि अगले महीने से कमोडिटीज की कर दरें तय की जाएंगी। आवश्यक खाद्य सामानों पर शून्य फीसदी कर दर तय होगी। इसके अलावा करों की चार दरें हैं, जिसमें पांच फीसदी, 12 फीसदी, 18 फीसदी और 28 फीसदी दरें हैं।

वित्तमंत्री जेटली ने कहा कि विलासिता की वस्तुओं और स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालने वाले उत्पादों पर लगभग एक जैसे प्रभावकारी कराधान तय किए जाएंगे।

यदि आपके लग्जरी वाहन पर 40 फीसदी कराधान और सिगरेट पर 65 फीसदी कराधान लगता है तो उन्हें 28 फीसदी की कर दरों में रखा जाएगा और राज्यों का राजस्व घटने की भरपाई के हर्जाने के तौर पर उपकर (सेस) लगाया जाएगा। केंद्रीय जीएसटी विधेयक 2017 कर वसूली, केंद्र सरकार द्वारा राज्य के भीतर सामानों, सेवाओं या दोनों पर कर संग्रह की व्यवस्था करेगा।

जेटली ने इसके अलावा समेकित वस्तु एवं सेवा कर विधेयक 2017 को भी सदन में पेश किया, जिससे राज्य के भीतर आपूर्ति पर कर संग्रह का प्रावधान होगा। जेटली ने वस्तु एवं सेवा कर (राज्यों को क्षतिपूर्ति) विधेयक भी पेश किया, जिसके तहत जीएसटी लागू होने पर राज्यों के राजस्व घाटे पर मुआवजा दिया जाएगा।

इसके साथ ही केंद्रीय प्रशासित वस्तु एवं सेवा कर विधेयक 2017 भी पेश किया गया, जिसमें केंद्र प्रशासित क्षेत्र में सामानों, सेवाओं या दोनों की आपूर्ति पर कर संग्रह का प्रावधान है।

 

अन्तर्राष्ट्रीय

नदी में नहाने गई थी लड़की, शरीर में घुस गया दिमाग खाने वाला कीड़ा, और फिर….

Published

on

नई दिल्ली। अमेरिका के टेक्सास में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां एक 10 साल की लड़की के शरीर में स्विमिंग के दौरान एक ऐसा किड़ा घुस गया जो वह दिमाग खाता है।

दिमाग में कीड़ा घुस जाने की वजह से लड़की अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रही है। पीड़िता का नाम लिली एवंत है।

साभार फेसबुक

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लिली स्विमिंग के लिए ब्रेजोस नाम की नदी में  गई हुई थी तभी ये हादसा हो गया। तबीयत बिगड़ने के बाद उसे मेडिकल कोमा में रखा गया है।

ऐसा माना जा रहा है कि लड़की रेयर Naegleria fowleri कीड़े से संक्रमित हो गई। यह एक ऐसा कीड़ा होता है जो दिमाग में टिश्यू को बर्बाद करने लगता है। नाक से शरीर में अंदर जाने पर यह खतरनाक हो जाता है।

एक स्थानीय व्यक्ति ने बताया कि उस दिन नदी में 40 लोग स्विमिंग कर रहे थे लेकिन सिर्फ लिली ही खतरनाक बैक्टिरिया से संक्रमित हुई।

लिली के पिता जॉन क्रॉसन ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि जल्द ही लड़की रिकवर कर लेगी। वह एक फाइटर है और काफी मजबूत भी।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending