Connect with us

नेशनल

पूर्व राजनयिक सैयद शहाबुद्दीन का निधन, उपराष्ट्रपति ने जताया शोक

Published

on

भारतीय विदेश सेवा, ऑल इंडिया मुस्लिम मजलिसे मुशावरत, शहाबुद्दीन ने बाबरी मस्जिद, उपराष्ट्रपति

नोएडा | भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) के पूर्व अधिकारी और सांसद सैयद शहाबुद्दीन का लंबी बीमारी के बाद नोएडा के एक अस्पताल में शनिवार सुबह निधन हो गया। ऑल इंडिया मुस्लिम मजलिसे मुशावरत के अध्यक्ष और शहाबुद्दीन के करीबी सहयोगी नावेद हामिद ने कहा, “ऑल इंडिया मुस्लिम मजलिसे मुशावरत के पूर्व अध्यक्ष शहाबुद्दीन का आज (शनिवार) सुबह 6.22 बजे निधन हो गया।”

भारतीय विदेश सेवा, ऑल इंडिया मुस्लिम मजलिसे मुशावरत, शहाबुद्दीन ने बाबरी मस्जिद, उपराष्ट्रपति

उन्हें नोएडा के जेपी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनके परिवार में उनकी पत्नी और चार बेटियां हैं। हामिद ने कहा कि दिवंगत नेता का अंतिम संस्कार दिल्ली में निजामुद्दीन के पुंजपीरन कब्रिस्तान में किया जाएगा।सैयद शहाबुद्दीन का जन्म 1935 में रांची में हुआ था, जो अब झारखंड में है।

शहाबुद्दीन ने बाबरी मस्जिद को गिराए जाने का कड़ा विरोध किया था और वह बाबरी एक्शन समिति के नेता भी थे। उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने सैयद शहाबुद्दीन के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

अंसारी ने एक संदेश में कहा, “सैयद शहाबुद्दीन गहरी प्रतिबद्धता वाले व्यक्ति थे और वह उन सभी मुद्दों को पूरी दृढ़ता से उठाते थे, जो उन्हें प्रिय थे।” अंसारी ने कहा कि शहाबुद्दीन के निधन से उन्होंने अपने एक प्रिय मित्र को खो दिया है।

उपराष्ट्रपति ने कहा, “उन्हें भारत में अधिक समावेशी और लोकतंत्र की स्थापना के लिए अपने अथक काम के लिए याद किया जाएगा।”

मणिपुर की राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला, ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन पार्टी के अध्यक्ष व सांसद असदुद्दीन ओवैसी और कई अन्य नेताओं ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है।

हेपतुल्ला ने एक ट्वीट में कहा, “आईएएफएस और पूर्व सांसद सैयद शहाबुद्दीन साहब के परिवार के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं। उनकी आत्मा को शांति मिले।” ओवैसी ने कहा कि शहाबुद्दीन का निधन राष्ट्र और खासतौर पर मुस्लिम अल्पसंख्यकों के लिए भारी क्षति है।

वहीं, भारतीय जनता पार्टी के नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने अपने ट्वीट में कहा, “इस सुबह अपने प्रिय मित्र सैयद शहाबुद्दीन के निधन के बारे में जानकार दुख हुआ। उन्होंने राजनीति में आने के लिए अपना आईएफएस का अच्छा-खासा करियर छोड़ दिया था। महान बुद्धिजीवी।”

 

नेशनल

आखिर किस वजह से पलटी गाड़ी, कानपुर के एसएसपी ने बताया

Published

on

नई दिल्‍ली। कानपुर में आठ पुलिस वालों के हत्यारे विकास दुबे को एसटीएफ ने एनकाउंटर में ढेर कर दिया है। यूपी एसटीएफ उसे लेकर कानपुर आ रही थी कि तभी रास्ते में जिस गाडी में वो बैठा था वो पलट गई। इसके बाद उसने एसटीएफ के एक सिपाही से पिस्टल छीन भागने की कोशिश की लेकिन मुठभेड़ में वो मार गिराया गया।

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार, एसएसपी दिनेश कुमार ने इस बारे में खुलासा किया है कि जिस कार में विकास दुबे को लेकर आया जा रहा था, वह गाड़ी क्‍यों पलटी।

एसएसपी कानपुर दिनेश कुमार पी ने बताया कि कैसे कुछ गाड़ियों से पीछा छुड़ाने के लिए पुलिस को स्पीड में गाड़ी दौड़ानी पड़ी और दुर्घटना हो गई। इस दौरान यूपी एसटीएफ भी साथ थी। एसएसपी दिनेश कुमार पी ने बताया कि विकास दुबे को ला रहे काफिले के पीछे कुछ गाड़ियां लगी हुई थीं। यह लगातार पुलिस के काफिले को फॉलो कर रही थीं, जिसकी वजह से गाड़ी तेज़ भगाने की कोशिश की गई। बारिश तेज़ थी, इसलिए गाड़ी पलट गई।

#KANPUR #SSP #VIKASDUBEY

Continue Reading

Trending