Connect with us

मुख्य समाचार

इसरो ने फिर रचा कीर्तिमान, 104 उपग्रह कक्षा में स्थापित

Published

on

isro 104 satelliteश्रीहरिकोटा| भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने बुधवार सुबह एक साथ 104 उपग्रहों को सफलतापूर्वक उनकी कक्षा में स्थापित कर इतिहास रच दिया। इसमें देश का पृथ्वी अवलोकन उपग्रह काटरेसैट-2 भी शामिल है। उपग्रहों का प्रक्षेपण भारतीय रॉकेट ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी) के जरिये किया गया।

इसरो के अध्यक्ष ए.एस.किरण कुमार ने सफल प्रक्षेपण के लिए टीम को बधाई देते हुए कहा, “104 उपग्रहों को कक्षा में स्थापित किया गया।”44.4 मीटर लंबे और 320 टन वजनी रॉकेट पीएसएलवी-एक्सएल ने सुबह 9.28 बजे उड़ान भरी।काटरेसैट-2 उपग्रह का वजन 714 किलोग्राम है और यह पांच वर्षो तक काम करेगा।

रॉकेट मिशन नियंत्रण कक्ष में इसरो वैज्ञानिक अपनी कंप्यूटर स्क्रीन पर टकटकी लगाकर इतिहास बनते देख रहे थे। लगभग 28 मिनट की उड़ान के बाद पीएसएलवी ने सफलतापूर्वक सभी 104 उपग्रहों को कक्षा में स्थापित कर दिया।

इसरो के एक अधिकारी ने नाम न जाहिर करते हुए कहा, “काटरेसैट उपग्रह पृथ्वी अवलोकन उपग्रह के काटरेसैट-2 श्रृंखला का चौथा उपग्रह है। इस श्रृंखला के तीन उपग्रह पहले ही पृथ्वी की कक्षा में स्थापित किए जा चुके हैं और दो अन्य का प्रक्षेपण किया जाना है। काटरेसैट-2 श्रृंखला के सभी छह उपग्रहों को प्रक्षेपित किए जाने के बाद काटरेसैट-3 श्रृंखला के उपग्रहों का प्रक्षेपण किया जाएगा।”

जिन उपग्रहों का प्रक्षेपण किया गया है, उनमें 101 नैनो उपग्रह हैं, जिनमें से इजरायल, कजाकस्तान, नीदरलैंड्स, स्विट्जरलैंड व संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के एक-एक और अमेरिका के 96 तथा भारत के दो नैनो उपग्रह शामिल हैं। इन सभी उपग्रहों का कुल वजन लगभग 1,378 किलोग्राम है। परियोजना निदेशक जयकुमार ने बताया कि पीएसएलवी रॉकेट से अब तक जिन 226 उपग्रहों का प्रक्षेपण किया जा चुका है, उनमें से 179 उपग्रह विभिन्न देशों के हैं।

सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (एसडीएससी) के निदेशक पी.कुन्हीकृष्णन के मुताबिक, इस साल तीन और प्रक्षेपण किए जाने हैं।इसरो ने बुधवार को एक साथ 104 उपग्रहों का प्रक्षेपण कर इस संबंध में रूस का रिकॉर्ड तोड़ दिया। रूस ने 19 जून, 2014 को एक साथ 37 उपग्रह प्रक्षेपित किए थे।

नेशनल

आठ पुलिस वालों का हत्यारा विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार

Published

on

उज्जैन। उत्तर प्रदेश के कानपुर में आठ पुलिस वालों का हत्यारा विकास दुबे गिरफ्तार कर लिया गया है। उसकी गिरफ्तारी उज्जैन के महाकाल मंदिर से की गई है। विकास यहां महाकाल के दर्शन करने आया था लेकिन पुजारी ने उसे पहचान लिया और पुलिस को इसकी सूचना दी।

कानपुर के चौबेपुर में घटना को अंजाम देकर फरार विकास पहले दिल्ली-एनसीआर पहुंचा, लेकिन पुलिस की जबरदस्त दबिश के बाद वह फिर मध्यप्रदेश के उज्जैन जिला पहुंचा, जहां उसे एमपी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

वहीं गुरुवार की सुबह पुलिस ने दो एनकाउंटर किए हैं- एक कानपुर में और दूसरा इटावा में। इसमें विकास दुबे के दो साथियों को ढेर कर दिया गया है।

Continue Reading

Trending