Connect with us

मुख्य समाचार

भारत एक सर्वाधिक पारदर्शी, खुली अर्थव्यवस्था बन रहा : जेटली

Published

on

Finance Minister Arun Jaitely

                               Finance Minister Arun Jaitely

विशाखापट्टनम | भारत दुनिया की एक सर्वाधिक पारदर्शी, खुली अर्थव्यवस्था बन रहा है। क्योंकि संरक्षणवाद की लहर के बीच एक के बाद एक क्षेत्र विदेशी निवेश के लिए खोले जा रहे हैं। वित्तमंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को यह बात कही। इस तटीय शहर में एक भागीदारी सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि भारत में 90 फीसदी निवेश ऑटोमेटिक मोड से आ रहा है, जो पारदर्शिता और व्यापार में आसानी को प्रतिबिंबित करता है।

जेटली ने यहां दो दिवसीय सम्मेलन में शामिल होने आए 40 देशों के प्रतिनिमंडलों से कहा कि भारत में अवसंरचना और ग्रामीण क्षेत्रों में भारी निवेश किया जा रहा है, जिसके कारण विकास प्रक्रिया बनी हुई है।

जेटली ने कहा कि दुनिया के सामने मंदी से निपटने की बड़ी चुनौती है।

उन्होंने कहा, “भविष्य अनिश्चित दिख रहा है, क्योंकि संरक्षणवाद की प्रवृत्ति में खासतौर से विकसित दुनिया में उभार दिख रहा है।”

मंत्री ने कहा कि पिछले कुछ सालों से भारत सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में उचित दर से आगे बढ़ रहा है और इसके कई कारक हैं, जिसमें सबसे प्रमुख लोगों के रवैये और सोच में बदलाव है।

उन्होंने कहा, “इतिहास में हमने पहले कभी ऐसी स्थिति नहीं देखी कि जहां भारत के लोगों ने सामने आकर अर्थव्यवस्था और समाज में परिवर्तन की खुलकर मांग की हो। यह लोगों की आकांक्षा को दिखाता है।”

नोटबंदी पर उन्होंने कहा कि हालांकि इसने थोड़े समय के लिए सिस्टम को हिलाकर रख दिया है, लेकिन इससे धीरे-धीरे समानांतर अनाधिकारिक अर्थव्यवस्था आधिकारिक अर्थव्यवस्था में बदल रही है।

उन्होंने कहा कि आधिकारिक अर्थव्यवस्था का आकार बढ़ रहा है और इससे बैंकिंग और डिजिटल भुगतान में भी तेजी आ रही है।

उत्तराखंड

देहरादून में शुरू होने जा रही है ये बड़ी स्कीम, जनता को मिलेगा बहुत फायदा

Published

on

देहरादून। प्रदेश में रूफ टॉप सोलर स्कीम 22 जनवरी को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत शुरू कर सकते हैं। इस योजना में 1 से 10 किलोवाट तक के प्लांट पर 20 से 40% तक सब्सिडी मिलेगी, सौर ऊर्जा को मिलेगा बढ़ावा।

सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए उत्तराखंड सरकार बिजली के घरेलू उपभोक्ताओं के लिए नई योजना लागू करने जा रही है। इस योजना से जुड़कर प्रदेश के 20 लाख घरेलू उपभोक्ता सब्सिडी का लाभ उठा सकते हैं। योजना के तहत 15 वेंडर सूचीबद्ध कर दिए गए हैं।

आवेदन की प्रक्रिया उत्तराखंड पावर कारपोरेशन (यूपीसीएल) की वेबसाइट पर ऑनलाइन होगी। चयनित आवेदकों के घर पर यूपीसीएल के सूचीबद्ध वेंडर सौर संयंत्र लगाएंगे।

आवेदक को सब्सिडी छोड़कर शेष धनराशि वेंडर को देनी होगी। संयंत्र लगने पर सब्सिडी का पैसा यूपीसीएल वेंडर के खाते में भेज देगा।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending