Connect with us

प्रादेशिक

मप्र के नगरों में होगी ‘आनंदम’ की स्थापना

Published

on

मप्र के नगरों में होगी 'आनंदम' की स्थापना

भोपाल | मध्य प्रदेश में आनंद विभाग के अस्तित्व में आने के बाद राज्य सरकार हर नगर में ‘आनंदम’ स्थल की स्थापना करने जा रही है। यह ऐसा स्थान होगा, जहां सक्षम लोगों द्वारा दान दी गई वस्तु जरूरतमंद को प्राप्त हो सकेगी और दोनों को पारस्परिक आनंद की अनुभूति होगी।

आधिकारिक तौर पर दी गई जानकारी के अनुसार, राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को मंत्रालय में प्रशासनिक अधिकारियों से चर्चा करते हुए कहा था कि जरूरत के समय मदद मिलने पर और जरूरतमंद की मदद करने पर दोनों व्यक्तियों को पारस्परिक आनंद की प्राप्ति होती है। इस व्यवस्था को कार्यरूप में बदलने के प्रारंभिक प्रयास के रूप में ‘आनंदम’ की स्थापना की जाए।

चौहान ने कहा कि आनंदम ऐसा स्थान होगा, जहां देने का और पाने का आनंद प्राप्त होगा। यह ऐसा स्थान होगा, जहां पर ऐसे व्यक्ति जो सामग्री देना चाहते हैं, रख सकेंगे। यहीं से जरूरतमंद व्यक्ति अपने उपयोग के लिए सामग्री भी प्राप्त कर सकेंगे।

उन्होंने कम्बल का उदाहरण देते हुए कहा कि ठंड के समय कंबल मिलने पर आनंद की प्राप्ति होती है। उसी तरह ठंड से बचाने में किसी की मदद का प्रयास भी आनंददायक होता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार का प्रयास है कि सभी के जीवन में आनंद और प्रसन्नता आए। इसी मकसद से आनंद विभाग द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों की रूपरेखा तैयार की गई है।

प्रादेशिक

सीएम योगी की मंजूरी के बाद शुरू होगा कोरोना की वैक्सीन ‘Covaxin’ का थर्ड फेज ट्रायल

Published

on

लखनऊ। यूपी में सीएम योगी आदित्यनाथ की मंजूरी के बाद अब जल्द ही कोरोना वायरस की वैक्सीन ‘Covaxin’ का थर्ड फेज ट्रायल शुरू होगा। इसका ट्रायल लखनऊ और गोरखपुर में किया जाएगा। उत्तरप्रदेश के मुख्य अपर सचिव (चिकित्सा और स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड के निदेशक वी कृष्ण मोहन को एक पत्र लिखा है। इस तरह से पत्र के माध्यम से उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने राज्य के दो शहरों में कोरोना की वैक्सीन का परीक्षण करने की अनुमति दी है।

पत्र में लिखा है, ‘कोवैक्सीन के तीसरे चरण के क्लिनिकल ट्रायल को उत्तर प्रदेश में किए जाने संबंधी अनुमति दी जाती है। भारत बायोटेक को लखनऊ और गोरखपुर में वैक्सीन के तीसरे चरण का परीक्षण करने की अनुमति देने का निर्णय लिया गया है।

भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार, आपको क्लिनिकल ट्रायल संबंधी सभी सुरक्षा और अन्य प्रोटोकॉल का पालन करना होगा। लखनऊ के लिए संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज के डॉक्टर आरके धीमन और गोरखपुर के लिए बीआरडी मेडिकल कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉक्टर गणेश कुमार को नोडल अफसर नियुक्त किया गया है।

Continue Reading

Trending