Connect with us

मुख्य समाचार

विकास कार्यो में सहयोग करे वित्‍त मंत्रालयः अखिलेश

Published

on

 

लखनऊ| उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने देश के वित्तमंत्री अरुण जेटली को पत्र लिखकर राज्य में चल रहे विकास कार्यो में सहयोग करने का आग्रह किया है। उन्होंने केंद्र से अनुरोध किया है कि प्रदेश में राष्ट्रीय मार्गो व राज्यमार्गो के त्वरित विकास के लिए धन जल्द से जल्द अवमुक्त किया जाए। जेटली को लिखे पत्र में मुख्यमंत्री ने कहा है कि राज्य के कुल 7600 किलोमीटर राष्ट्रीय मार्गो में से 3600 किलोमीटर का अनुरक्षण एवं रखरखाव प्रदेश सरकार के लोक निर्माण विभाग द्वारा एवं वित्त पोषण केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा किया जाता है। उन्होंने कहा है कि इसके लिए सामान्य मरम्मत मद में केंद्र सरकार से वर्ष 2012-13 में 24 करोड़ 48 लाख रुपये, वर्ष 2013-14 में 15 करोड़ 69 लाख रुपये तथा वर्ष 2014-15 में अब तक 13 करोड़ 68 लाख रुपये प्राप्त हुए हैं।

 

उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार से मिलने वाली राशि में प्रत्येक वर्ष कमी हो रही है, जबकि मरम्मत की दरों में हर वर्ष वृद्धि हो रही है। मुख्यमंत्री ने पत्र के माध्यम से यह भी बताया है कि कि वर्ष 2014-15 के लिये अप्रैल 2014 में राष्ट्रीय मार्गो के नवीनीकरण के 27 कार्यो के लिए 267 करोड़ रुपये का प्रस्ताव सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय को भेजा गया, जिसके सापेक्ष मात्र 10 कार्यो के लिए 84 करोड़ 54 लाख रुपये की स्वीकृति निर्गत की गई है। बाकी राशि अभी तक प्राप्त नहीं हुई है। उन्होंने कहा है कि प्रदेश में राष्ट्रीय मार्गों के चौड़ीकरण व सुदृढ़ीकरण, पुल व पुलियों के निर्माण के कार्यों के लिए वर्ष 2014-15 में सड़क, परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा 1183 करोड़ रुपये की कार्य योजना अनुमोदित की गयी है, जिसके सापेक्ष अभी तक मात्र 354 करोड़ 44 लाख रुपये की स्वीकृति ही निर्गत की गई है, जो काफी कम है।

 

उन्होंने कहा है कि केंद्रीय मार्ग निधि से राजकीय मार्गों के चौड़ीकरण पर अक्टूबर, 2014 तक राज्य सरकार द्वारा किए गए कुल व्यय 2,370 करोड़ 22 लाख रुपये के सापेक्ष 2,096 करोड़ 42 लाख रुपये भारत सरकार से प्राप्त हुए हैं। मुख्यमंत्री ने नव्रबर, 2014 तक की अवशेष राशि 273 करोड़ 80 लाख रुपये शीघ्र अवमुक्त कराने का अनुरोध किया, जिससे मार्गों के चौड़ीकरण का कार्य तेजी से पूरा कराया जा सके।

मुख्य समाचार

उपचार प्रदान करने के लिए सरकार का बहुत आभारी: ली

Published

on

दक्षिण कोरिया, शिनचेनजी चर्च ऑफ जीसस के मंदिर के अध्यक्ष ली मान-हे, टेम्बर्नेशन ऑफ द टेरीमनी (शिनचोनजी) के मंदिर ने डेगू में शिनचोनजी के सदस्यों को धन्यवाद देने के लिए एक संदेश भेजा, जिसमें उन्होंने कहा कि COVID -19 के वैक्सीन को विकसित करने में आवश्यक अपने प्लाज्मा को दान करने का निर्णय लिया गया।

संयुक्त राज्य अमेरिका में मौजूदा लेनदेन के अनुसार, यदि 4,000 रोगियों को व्यक्तिगत रूप से 500 मिलीलीटर दान किया जाता है, तो रक्त प्लाज्मा की मात्रा लगभग 83 बिलियन डॉलर होगी। “केवल 200 बरामद मरीजों के साथ COVID -19 के लिए एक दवा विकसित करने में तेजी लाना मुश्किल है जिन्होंने रक्त दान करने की इच्छा व्यक्त की। दक्षिण कोरिया की एक बायोफार्मास्युटिकल कंपनी ग्रीन क्रॉस फार्मा के एक अधिकारी ने कहा, शिनचोनजी चर्च में बरामद मरीजों से किए गए दान से शोध के लिए खून की कमी की समस्या दूर हो जाएगी।

शिनचोनजी ने कहा कि सभापति ली ने सदस्यों को धन्यवाद देने के लिए एक पेज का पत्र भेजा। शीर्षक पत्र के माध्यम से “डेगू चर्च के प्यारे सदस्यों को”, अध्यक्ष ली ने कहा, “COVID-19 के इलाज के लिए टीका के विकास के लिए प्लाज्मा (रक्त) के दान में सक्रिय रूप से भाग लेने के आपके इरादे की खबर सुनकर मुझे खुशी हुई।” मुझे विश्वास है कि आप वही हैं जिन्हें यीशु का रक्त प्राप्त हुआ था।”

उन्होंने आगे कहा, ‘मैं सरकार का बहुत शुक्रगुजार हूं, जिसने COVID-19 के प्रसार को रोकने और इसके लिए उपचार प्रदान करने का जिम्मा लिया। यह ऐसा कुछ नहीं है जिसे हमारा चर्च हल कर सकता है, “और,” मुझे पता है कि आप (डेगू में शिनचोनजी के सदस्य] इस बीमारी के दर्द से दुनिया के सभी लोगों को मुक्त करने के लिए हमारी सामूहिक इच्छा में अपना दिल लगा चुके हैं। ”

#corona #vaccine

Continue Reading

Trending