Connect with us

प्रादेशिक

दलित छात्रा रैगिंग : कर्नाटक पुलिस ने 3 लोगों को गिरफ्तार किया

Published

on

दलित छात्रा रैगिंग : कर्नाटक पुलिस ने 3 लोगों को गिरफ्तार किया

दलित छात्रा रैगिंग : कर्नाटक पुलिस ने 3 लोगों को गिरफ्तार किया

कोझिकोड/बेंगलुरू| कर्नाटक पुलिस ने नर्सिग की तीन छात्राओं को अपनी जूनियर अस्वथी के. पी. के साथ रैगिंग और उसे कीटनाशक पीने को मजबूर करने के आरोप में गिरफ्तार किया। इस घटना के बाद पीड़िता गंभीर रूप से बीमार हो गई। उसकी हालत अब भी नाजुक है। लक्ष्मी, अथिरा और कृष्णप्रिया को शुक्रवार शाम गिरफ्तार किया। कर्नाटक के गुलबर्गा के जिला मजिस्ट्रेट ने उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

पीड़िता के साथ-साथ आरोपी छात्राएं भी केरल की रहने वाली हैं, जो कर्नाटक के गुलबर्गा स्थित अल कमर कॉलेज ऑफ नर्सिग की छात्रा हैं।
इस मामले में कर्नाटक पुलिस एक अन्य आरोपी शिल्पा जोसे को तलाश रही है, जो फरार है। अस्वथी एक 19 वर्षीया दलित लड़की है, जिसे नौ मई को उसकी सीनियरों द्वारा होस्टल के कमरे में बाथरूम साफ करने में प्रयुक्त होने वाला कीटनाशक पीने के लिए मजबूर किया। इसके कारण उसके आंतरिक अंगों पर गंभीर जख्म पड़ा।

पीड़िता की हालत गंभीर बताई जा रही है और उसका इलाज केरल के कोझिकोड जिले के एक अस्पताल में चल रहा है। उसे यहां दो जून को भर्ती किया गया था। इस मामले में कोझिकोड में 22 जून को एक प्राथमिकी (एफआईआर) भी दर्ज की गई। इसके बाद जिला पुलिस ने इस एफआईआर पर कार्रवाई के लिए कर्नाटक पुलिस की मदद की मांगी।

कर्नाटक पुलिस अधिकारियों की नौ सदस्यीय टीम अभी पीड़िता का बयान लेने के लिए कोझिकोड में है। उन्होंने इस मामले में फरार आरोपी शिल्पा को पकड़ने के लिए केरल पुलिस की भी मदद मांगी है। ऐसा माना जा रहा है कि चौथी आरोपी केरल में ही है। अस्वाथी की मां ने कहा, “जिस प्रकार मुझे पीड़ा हो रही है, उस पीड़ा से कोई भी मां नहीं गुजरी होगी।”

केरल विधानसभा में विपक्ष के नेता रामेश चेन्निथाला शनिवार को पीड़िता का हालचाल पूछने अस्पताल पहुंचे और उन्होंने उसके इलाज के संदर्भ में चिकित्सकों से भी बात की। चेन्निथाला ने संवाददाताओं को बताया, “मैंने केरल और कर्नाटक के मुख्यमंत्रियों से बात की है और इस मामले की जांच में तेजी लाने और आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की।”

प्रादेशिक

मोदी सरकार ने दिवाली से पहले दिल्ली के लोगों को दिया ये बड़ा तोहफा

Published

on

नई दिल्ली। मोदी सरकार ने दिवाली से 4 दिन पहले ही दिल्ली के लोगों को बड़ा तोहफा दिया है। बुधवार को हुई कैबिनेट मीटिंग में दिल्ली की अवैध कॉलोनियों को नियमित करने का फैसला लिया गया है।

इस फैसले के बाद लगभग 40 लाख लोगों को बड़ी राहत मिल सकेगी। बुधवार को केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस बात की जानकारी दी।

प्रेस कांफ्रेंस में केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पूरी ने दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि दिल्ली सरकार ने इन कॉलोनियों को चिन्हित कर इनपर काम करने के लिए साल 2021 तक का समय मांगा था। केंद्र ने उनके लचर रवैये को देखते हुए खुद ही इन कॉलोनियों को नियमित करने को लेकर निर्णय लिया।

उन्होंने कहा कि अनियमित कॉलोनियों में रहने वाली आबादी को तमाम तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वहां रहने वाले लोग मूलभूत सुविधाओं से भी वंचित हैं, इसलिए केंद्र ने वहां रहने वाले लोगों को मालिकाना हक देने का फैसला लिया है। इससे वो लोग अपनी जमीन की खरीद-बिक्री से लेकर लोन तक लेने के योग्य हो जाएंगे।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending