Connect with us

मुख्य समाचार

इसरो ने एक साथ 20 उपग्रहों का प्रक्षेपण कर इतिहास रचा

Published

on

इसरो, 20 उपग्रहों का प्रक्षेपण, पीएसएलवी
इसरो, 20 उपग्रहों का प्रक्षेपण, पीएसएलवी

20 pslv launch by isro today

श्रीहरिकोटा| भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने भारतीय रॉकेट ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी) से बुधवार सुबह एक साथ 20 उपग्रहों का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण कर इतिहास रच दिया।

इनमें पृथ्वी की निगरानी करने वाला उपग्रह काटरेसैट, गूगल कंपनी टेरा बेला का स्काईसैट जेन2-1 और अन्य 18 उपग्रह शामिल हैं। 44.4 मीटर लंबा और 320 टन वजनी पीएसएलवी ने सुबह 9:26 बजे 20 उपग्रहों को लेकर उड़ान भरी। सभी उपग्रहों का वजन 1,288 किलोग्राम है।

इस रॉकेट का मुख्य और सबसे वजनी हिस्सा पृथ्वी के अवलोकन से संबंधित 725.5 किलोग्राम का काटरेसैट-2 श्रृंखला का उपग्रह है। इस उपग्रह पहले काटरेसैट-2, 2ए और 2बी के समान हैं।

अन्य 19 उपग्रहों में 560 किलोग्राम के अमेरिका, कनाडा, जर्मनी और इंडोनेशिया के साथ-साथ चेन्नई के सत्यभामा विश्वविद्यालय और पुणे के कॉलेड ऑफ इंजीनियरिंग के दो उपग्रह शामिल हैं।

काटरेसैट उपग्रह से भेजी जाने वाली तस्वीरें काटरेग्राफिक, शहरी, ग्रामीण, तटीय भूमि उपयोग, जल वितरण और अन्य अनुप्रयोगों के लिए मददगार होंगी।

इसरो के मुताबिक, गूगल कंपनी टेरा बेला से संबद्ध 110 किलोग्राम वजनी स्काईसैट जेन2-1 एक छोटा उपग्रह है, जो सब-मीटर रिजोल्यूशन इमेज लेने और हाई डिफनिशन वीडियो बनाने में सक्षम है।

प्रक्षेपित विदेशी उपग्रहों में कनाडा का 85 किलोग्राम वजनी एम3एमसैट, इंडोनेशिया का 120 किलोग्राम वजनी एलएपीएसएन-ए3, जर्मनी का 130 किलोग्राम वजनी बीआईआरओएस और कनाडा का ही 25.5 किलोग्राम वजनी जीएचजीसैट-डी उपग्रह शामिल है।

सत्यभामा विश्वविद्यालय का 1.5 किलोग्राम वजनी सत्याभामासैट उपग्रह ग्रीन हाउस गैसों के आंकड़े एकत्र करेगा। वहीं, पुणे का एक किलोग्राम का स्वायन उपग्रह हैम रेडियो कम्युनिटी को संदेश भेजेगा।

इसरो पहली बार इस मिशन के तहत एक ही रॉकेट से 10 से अधिक उपग्रहों का प्रक्षेपण कर रहा है। साल 2008 में इसरो ने पीएसएलवी रॉकेट से 10 उपग्रह प्रक्षेपित किए थे। अब तक भारत 57 विदेशी उपग्रहों का सफल प्रक्षपेण कर चुका है।

अन्तर्राष्ट्रीय

वुहान में फिर से जाग उठा कोरोना वायरस, मचा हड़कंप

Published

on

नई दिल्ली। चीन के वुहान से पूरी दुनिया में फैला कोरोना वायरस अब एक बार फिर अपने ही घर पहुंच गया है। हुबेई प्रांत के वुहान में एक बार फिर कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है।

हैरानी की बात ये है कि इस बार यह वायरस चीन के किसी शहर से नहीं बल्कि दूसरे देश से आया है। जानकारी के मुताबिक इंग्लैंड से आए एक युवक को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है।

युवक चीन का ही नागरिक है और इंग्लैंड में पढ़ाई करता है। छात्र का नाम झोऊ बताया जा रहा है। दरअसल, 16 साल के झोऊ का इंग्लैंड में कोरोना टेस्ट निगेटिव आया था जिसके बाद उसे अपने देश जाने की अनुमति मिल गई।

लेकिन यह आते ही उसका रिजल्ट पॉजिटिव आ गया। बता दें कि वुहान में पिछले 10 दिनों में सिर्फ एक ही कोरोना वायरस का मामला सामने आया था। लेकिन अब इस छात्र के जाने से चीन की सरकार सतर्क हो गई है।

वुहान के स्थानीय चिकित्सा अधिकारियों ने कहा कि यह झोउ वुहान का पहला इंपोर्टेड केस है. यानी पहला केस जो विदेश से संक्रमित होकर वुहान आया हो. जबकि उसके अंदर कोई लक्षण नहीं दिख रहे थे।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending