Connect with us

बिजनेस

‘माल्या के ऑफर से पता चलता है कि वे ऋण चुकाना चाहते हैं’

Published

on

उद्योगपति विजय माल्या, 4,000 करोड़ रुपये वापस करने की पेशकश, उद्योग संघ एसोसिएटेड चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ऑफ इंडिया, 'विलफुल डिफाउल्टर'

उद्योगपति विजय माल्या, 4,000 करोड़ रुपये वापस करने की पेशकश, उद्योग संघ एसोसिएटेड चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ऑफ इंडिया, 'विलफुल डिफाउल्टर'

नई दिल्ली| कर्ज नहीं चुकाने के मामले में फंसे उद्योगपति विजय माल्या के 4,000 करोड़ रुपये वापस करने की पेशकश से पता चलता है कि वह ऋण चुकाना चाहते हैं। यह बात उद्योग संघ एसोसिएटेड चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ऑफ इंडिया (एसोचैम) ने कही। एसोचैम महासचिव डी.एस. रावत ने शनिवार रात जारी एक बयान में कहा, “डिफॉल्ट को विलफुल तभी घोषित किया जाना चाहिए, जब वह जानबूझकर किया गया हो। जब यह स्थापित हो जाए कि कर्ज लेने वाला कर्ज वापस करना चाहता है, तो डिफॉल्ट को इरादतन नहीं माना जाना चाहिए।” रावत ने कहा कि ‘विलफुल डिफाउल्टर’ पर बहुत ज्यादा जोर दिया जा रहा है और इससे आम लोगों की नजर में उद्योग जगत की छवि खराब हो रही है, जबकि सच्चाई यह है कि वे देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) और रोजगार सृजन में बड़ी भूमिका निभाते हैं।

उन्होंने कहा, “कारोबारी जीवन में कठिन समय आया करते हैं। ऐसे समय भी आते हैं, जब एक उद्यमी पूरी कोशिश करने के बाद भी संकट जैसी स्थिति का सामना करते हैं।” रावत ने कहा, “विलफुल डिफाउल्ट को लेकर की जा रही हायतौबा के बीच सरकार को संयम बरतनी चाहिए और मीडिया के दबाव में नहीं आना चाहिए, जो कई बार सही और गलत के अतिरंजित बहस में फंस जाता है।” किंगफिशर एयरलाइस और माल्या के मामले में उन्होंने कहा, “मीडिया और जन सुनवाई से बचना चाहिए, क्योंकि ये उद्योग, बैंक या देश की वित्तीय प्रणाली के लिए अच्छा नहीं है।” उन्होंने कहा कि बैंकों का मुख्य ध्यान कर्ज की वसूली पर होना चाहिए और इसके लिए वाजिब कोशिश होनी चाहिए। उन्होंने कहा, “माल्या ने अच्छा किया या बुरा इसे कानून लागू करने वाली एजेंसियों और अदालत पर छोड़ देना चाहिए। बैंकों को खुले दिमाग से यह जरूर सोचना चाहिए कि उसके सामने क्या विकल्प हैं।”

नेशनल

दो महीने बाद नए नियमों के साथ देश में हवाई सेवा अब फिर से शुरू

Published

on

By

लॉकडाउन की वजह से देश में रुकी हुई हवाई सेवा अब फिर से चालू हो गई है। दो महीने बाद 25 मई से घरेलू हवाई सेवा शुरू कर दी गई हैं।

25 मई से आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल को छोड़कर पूरे देश में घरेलू विमान सेवा की शुरुआत हो गई है। दिल्ली से सुबह 4:45 पर पुणे के लिए पहली फ्लाइट रवाना भी हो चुकी है।मुंबई एयरपोर्ट से सुबह 6:45 पर पहली फ्लाइट पटना के लिए रवाना हुई।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का हुआ निधन, लंबे समय से दिल्ली के अस्पताल में चल रहा था इलाज

 

ये हवाई सेवाएं करीब दो महीने शुरू हो रही हैं, इसको देखते हुए एयरपोर्ट पर भी खास तैयारियां की गई हैं। एयरपोर्ट पर अब नए नियमों के साथ सोशल डिस्टेंसिंग के नियम लागू किए गए हैं।

एयरपोर्ट पर दो मीटर की दूरी का पालन किया जाना अब ज़रूरी है। इसके अलावा हवाई यात्रा के संबंध में राज्य सरकारों ने अलग-अलग गाइडलाइंस जारी की हैं।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending