Connect with us

मुख्य समाचार

आजाद को पार्टी से बाहर कर देश से माफी मांगें सोनिया : विहिप

Published

on

विश्व हिंदू परिषद, जमीयत उलेमा-ए-हिन्द का राष्ट्रीय एकता सम्मेलन, राष्ट्रीय एकता तोड़ने वालों का जमावड़ा, विहिप के अंतर्राष्ट्रीय संयुक्त महामंत्री सुरेन्द्र जैन, ईसाई धर्मगुरु जॉन दयाल, कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर, गुलाम नबी आजाद व सोनिया गांधी

vishwa hindu parishad

नई दिल्ली| विश्व हिंदू परिषद (विहिप) का कहना है कि जमीयत उलेमा-ए-हिन्दका राष्ट्रीय एकता सम्मेलन राष्ट्रीय एकता तोड़ने वालों का जमावड़ा सिद्ध हुआ है। विहिप के अंतर्राष्ट्रीय संयुक्त महामंत्री सुरेन्द्र जैन ने रविवार को एक बयान में ईसाई धर्मगुरु जॉन दयाल, कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर तथा राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तार उमर खालिद के पिता की सम्मेलन में मौजूदगी पर सवाल उठाया है। विहिप का कहना है कि कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद व सोनिया गांधी ‘भी देश तोड़ने वालों की भूमिका में ही दिखाई दे रहे थे। वोट बैंक के लिए इन दोनों ने मयार्दाओं को तार-तार कर दिया।’ उन्होंने कहा कि ‘राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) से तुलना इस बात को दर्शाता है कि वे चंद वोटों के लिए देश के हितों को कुर्बान कर सकते हैं।’ विहिप नेता ने पूछा है कि ‘क्या कांग्रेस नेता समझते हैं कि भारत का मुस्लिम समाज आईएस के साथ सहानुभूति रखता है? उन्होंने अपने इस बयान से भारतीय मुस्लिम समाज की छवि को बेदर्दी के साथ खराब कर, उसकी देशभक्ति को कटघरे में खड़ा करने का पाप किया हैं।’

उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को इस बयान के लिए राष्ट्र से अविलम्ब माफी मांगनी चाहिए। इसके अलावा गुलाम नबी आजाद को कांग्रेस से बाहर का रास्ता दिखाना चाहिए। विहिप नेता ने आरोप लगाया कि आजाद ने सफेद झूठ बोल दिया कि सोनिया ने उर्दू में हस्ताक्षर किए हैं। पत्र को देखने पर स्पष्ट हो जाता है कि हस्ताक्षर हिन्दी में हैं। उस पर भी संदेह है कि भाषा तो उनकी नहीं है, हस्ताक्षर भी उनके नहीं होंगे। विहिप के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल द्वारा जारी इस बयान में यह भी कहा गया कि ‘सोनिया गांधी यदि गुलाम नबी आजाद पर कार्रवाई नहीं करतीं तो उन्हें कुछ बातों का उत्तर देना पड़ेगा। प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने गणतंत्र दिवस परेड में संघ की टोली को सम्मिलित किया था। सोनिया जी को बताना पड़ेगा कि अब वह नेहरू जी के बारे में क्या सोचती हैं? दूसरा, उनके पति स्वर्गीय राजीव गांधी भारत में रामराज्य चाहते थे, जबकि वह राम मंदिर का विरोध कर रही हैं। क्या कोई भारतीय पत्नी अपने स्वर्गीय पति की इच्छा के विरुद्ध काम कर सकती है?’

नेशनल

मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन बोले-बाबर ने बनवाया था मंदिर

Published

on

नई दिल्ली। अयोध्या जमीन विवाद मामले की सुनावाई के 28वें दिन मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने अदालत में बाबरनामा का हवाला दिया।

राजीव ने कहा कि वहां मंदिर ही बाबर ने बनाया था। उन्होंने कोर्ट में सुनवाई के दौरान कहा कि हिन्दू पक्षकार तो गजेटियर का हवाला अपनी सुविधा के मुताबिक दे रहे हैं, लेकिन गजेटियर कई अलग अलग समय पर अलग नजरिये से जारी हुए थे। लिहाजा सीधे तौर पर ये नहीं कहा जा सकता कि बाबर ने मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाई।

राजीव धवन ने कहा कि जस्टिस अग्रवाल के इस विचार से भी इत्तेफाक नहीं रखता, जो कहीं रिपोर्ट को मान रहे हैं और कहीं नहीं। इस पर जस्टिस बोबड़े ने पूछा कि कई पुरानी मस्जिदों में संस्कृत में भी कुछ लिखा हुआ मिला है। वो कैसे?

जज के सवाल का जवाब देते हुए राजीव धवन ने कहा कि क्योंकि बनाने वाले मजदूर कारीगर हिंदू होते थे तो वे अपने तरीके से इमारत बनाते थे।

बनाने का काम शुरू करने से पहले वो विश्वकर्मा और अन्य तरह की पूजा भी करते थे और काम पूरा होने के बाद यादगार के तौर पर कुछ लेख भी अंकित करते थे।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending