Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

नेशनल

कोरोना संक्रमित ससुर को असम की एक महिला ने पीठ पर लादकर एंबुलेंस तक पहुंचाया, तस्वीर हुई वायरल

Published

on

असम की निहारिका दास की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं जहाँ वह अपने कोरोना पॉजिटिव ससुर को पीठ पर लादकर ऑटोरिक्शा तक ले जा रही हैं। निहारिका दास की इस तस्वीर ने उनके सेवा भाव को दिखते हुए बेबसी की झलक भी दिखाई है। किसी के मदद में सामने ना आने पर निहारिका दास ने उन्हें अपनी पीठ पर लादकर ऑटोरिक्शा तक पहुंचाया, जिसमें बैठकर वे अस्पताल जाने वाले थे। अपनी इस बेबसी को झेलने के बाद उनका कहना है कि वह उम्मीद करती हैं कि भविष्य में किसी को इस तरह की स्थिति से न गुजरना पड़े। असम के नागांव के राहा इलाके की निहारिका के ससुर पान-सुपारी बेचने का काम करते हैं।

निहारिका के मुताबिक़ 2 जून को उनके ससुर में कोरोना के लक्षण दिखने शुरू हो गए थे। इसके बाद उसने किसी म्हणत कर के ऑटो रिक्शा की व्यवस्था की और 75 वर्षीय ससुर को अस्पताल पहुंचाया। इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में निहारिका ने कहा, ‘मेरे ससुर बेहद कमजोरी महसूस कर रहे थे और खड़े भी नहीं हो पा रहे थे। मेरे पति काम के चलते सिलिगुड़ी में थे। ऐसे में मेरे पास उन्हें अपनी पीठ पर लादकर ले जाने के अलावा कोई चारा नहीं बचा था। इसकी वजह यह भी थी कि हमारी गली संकरी थी और इसके चलते ऑटो आ नहीं सकता था। ऐसे में मैं ससुर को लेकर वहां तक पहुंची।’

हालांकि निहारिका दास की मुश्किलें यहीं खत्म नहीं हुईं। नजदीक के अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने कहा कि उन्हें अपने ससुर को 21 किलोमीटर दूर स्थित कोविड अस्पताल लेकर जाना होगा क्योंकि उनकी स्थिति गंभीर थी। 6 साल के बेटे की मां निहारिका ने कहा कि इसके बाद हमें एक और गाड़ी बुलानी पड़ी। वहां पर कोई एंबुलेंस, स्ट्रेचर की व्यवस्था नहीं थी। ऐसे में एक बार फिर से मुझे ही अपने ससुर को पीठ पर लादकर गाड़ी पर ले जाना पड़ा। निहारिका ने कहा कि उनके ससुर तुलेश्वर दास एक तरह से बेहोशी की हालत में थे। इसके चलते शारीरिक और मानसिक तौर पर काफी मशक्कत करनी पड़ी।

Continue Reading

नेशनल

कोवैक्सीन को लेकर आई अच्छी खबर, तीसरे फेज में 77.8% असरदार पाया गया टीका

Published

on

नई दिल्ली। भारत की वैक्सीन कोवैक्सीन को लेकर एक अच्छी खबर सामने आई है। इस स्वदेशी वैक्सीन को बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक के मुताबिक तीसरे चरण के ट्रायल में यह टीका 77.8 फीसदी असरदार पाया गया है। बता दें कि भारत में जिन दो वैक्सीन को इमरजेंसी अप्रूवल मिला है कोवैक्सीन उसमें से एक है।

सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमिटी (SEC) ने भारत बायोटेक की ओर से उपलब्ध कराए गए डेटा की समीक्षा की है। हालांकि अभी इसे मंजूरी नहीं दी गई है। ट्रायल डेटा की समीक्षा के लिए मंगलवार को एक्सपर्ट पैनल की बैठक हुई।

SEC की ओर से इस डेटा को अब ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) के पास भेजा जाएगा। भारत बायोटेक ने पैनल के सामने डेटा को रखा है, जिसके मुताबिक यह 77.8 फीसदी प्रभावी पाया गया है। SEC में अब आंकड़ों को परखा जा रहा है।

Continue Reading

Trending