यह सब कार्य सगुण साकार भगवान् ही कर सकते हैं

सृष्टि पूर्व हरि देखत, सोचत मृदु मुसकात । सगुण रूप साकार नित, वेद विदित विख्‍यात ।। 55 ।। भावार्थ- कुछ

Read more

ब्रह्म का आनन्द चेतन है

यह ब्रह्म रस रूप में आस्‍वाद्य एवं आस्‍वादक दोनों है। पूर्व में बता चुके हैं कि ब्रह्म में अनन्‍त स्‍वाभाविक

Read more