Google+
Aaj Ki Khabar  Aaj Ki Khabar
Updated
...बिना सिर वाला शिशु जिंदा
टैग:
Friday, May 4 2012 12:32PM IST
महिला के गर्भ में छह महीने का बिना सिर वाला शिशु जिंदा।

जी हां। चौकाने वाली इस ख़बर से पूरा चिकित्सक समाज आश्चर्य में है।

हुआ यूं कि उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के वीरागंना अवंतीबाई (डफरिन) अस्पताल में एक महिला के अल्ट्रासाउंड करते हुए डॉक्टर अचानक चीख उठा।

उसने आनन-फानन में वरिष्ठ डॉक्टरों को बुलाया और उस महिला का बार-बार अल्ट्रासाउंड करके देखा गया। पर महिला के गर्भ में छह महीने का बिना सिर वाला शिशु जिंदा ही दिखा।

आश्चर्यचकित डॉक्टरों ने इसे एनएनकैफिली नामक आनुवांशिक बीमारी से पीड़ित होने की आशंका जताते हुए महिला को पीजीआई के जेनेटिक यूनिट रेफर कर दिया है।

लखनऊ में खदरा निवासी छह महीने की गर्भवती आशा (30) को दर्द की शिकायत होने पर परिजनों ने डफरिन अस्पताल में भर्ती कराया। डॉक्टरों ने जांच की और कहा कि छह महीने में प्रसव होने की कोई आशंका नहीं है। फिर भी एक अल्ट्रासाउंड की कराने की सलाह देते हुए भर्ती कर लिया।

दूसरे दिन आशा का जब अल्ट्रासाउंड किया जा रहा था कि जांच करने वाला डॉक्टर मॉनीटर पर गर्भस्थ शिशु की फोटो देखकर एक पल तो उछल पड़ा। उसे लगा कि वह जांच में कोई गलती कर रहा हो पर उसने सावधानीपूर्वक जांच करते हुए गर्भस्थ शिशु को ध्यान पूर्वक देखा तो पता चला कि उसके सिर ही नहीं है फिर भी वह जिंदा है और उसके हार्ट बीट चल रही है। किसी भी प्रकार के मूवमेंट में उसे कोई दिक्कत नहीं है।

मौके पर पहुंची प्रमुख अधीक्षका डॉ. मीनू सागर ने खुद वरिष्ठ डॉक्टरों के साथ महिला की जांच की।

उन्होंने बताया कि यह गर्भस्थ शिशु एनएनकैफिली नामक आनुवांशिक बीमारी से पीड़ित हो सकता है। डॉ . सागर का कहना है कि संभावना है कि गर्भवती होने के वक्त फोलिक एसिड की गोलियों का नियमित सेवन नहीं किया गया हो और अन्य नियमित जांच भी नहीं करायी गयी हो। जिसके कारण यह दिक्कत हो गयी है।

उन्होंने बताया कि महिला को पीजीआई रेफर कर दिया गया है।