श्रीकृपालु जी महाराज:सबके शासक हैं श्रीकृष्ण

श्रीकृपालु जी महाराज:सबके शासक हैं श्रीकृष्ण

द्विभुजं ज्ञान मुद्राढ्यं वनमालिनमीश्वर्रम्

फिर कहता है वेद ,वो दो भुजा वाले है । वनमाली , वो सबके शासक हैं,श्रीकृष्ण

तमेंक गोविंद सच्चिदानन्द विग्रहम्।

वो सच्चिदानन्द शरीर वाले हैं। उनका शरीर उनसे भिन्न नहीं है। वे भी सच्चिदानन्द ,शरीर भी सच्चिदानन्द।

उसी का भजन करों।

कृष्ण एव परो देवस्तं ध्यायेत्तं रसयेत् तं भजेत्।

उसी का भजन करो ।

कृष्णो ब्रह्रौव शाश्वतम्।

योसौ परं ब्रह्रा गोपाल:।

यो सौ सर्वभूतात्मा गोपाल:।

अन्य »

Leave a Comment


 

Scroll To Top