एसटीएफ को मिली बड़ी कामयाबी, लखनऊ में दबोचा गया सॉल्वर गैंग

लखनऊ। यूपी एसटीएफ ने इलाहाबाद-गोरखपुर के बाद भर्ती परीक्षा में धांधली करने वाले एक गैंग को लखनऊ से गिरफ्तार किया है। गोरखपुर में गैंग से पूछताछ में एसटीएफ को पता चला कि इस गैंग से जुड़े आरोपी कृष्णानगर में पिकडली होटल के पास मिलने आने वाले हैं, जिसके बाद पुलिस ने जाल बिछाकर तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया। गैंग के पास से एसटीएफ को 9 इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस,15 ब्लूएटूथ व ब्लूटूथ बैटरी, परीक्षा में पास होने वाले युवको की मार्कशीट, वोटर कार्ड, आधार कार्ड बरामद हुआ है। गिरफ्तार 3 में एक 2015 मे cpmt का पेपर लीक कराने में भी जेल जा चुका है।

इससे पहले, यूपी एसटीएफ ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की ग्रुप डी भर्ती परीक्षा में धोखाधड़ी करने वाले गिरोह के सरगना समेत 13 लोगों को गिरफ्तार किया है। एसटीएफ को हाईकोर्ट ग्रुप-डी भर्ती परीक्षा का पेपर लीक करने वाले गैंग की सूचना 10 नवंबर को मिली थी, जिसके बाद एसटीएफ ने आरोपियों पर शिकंजा कसने के लिए जांच शुरू की।

एसटीएफ ने गैंग के सदस्यों की लोकेशन इलाहाबाद में ट्रैक कर ली और परीक्षा से कुछ घंटे पहले ही इन्हे गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तार किये गए आरोपियों में सिराज, संजय और अभिषेक धोखाधड़ी के मुख्य साजिशकर्ता थे, जबकि 4 परीक्षार्थी और 6 सॉल्वर को भी दबोचा गया है। इनके पास से नकल कराने के लिए हाईटेक सामग्री भी बरामद हुई है। गिरोह के तार कई राज्यों से जुड़े हैं। ये आरोपी टीईटी परीक्षा में भी नकल का ठेका लेते हैं।

हालांकि यह पहला मौका नहीं है जब इलाहाबाद में ऐसा गैंग पकड़ा गया। बीते 5 महीने में यह तीसरा गैंग है। इससे पहले हाईकोर्ट की ही परीक्षा से पहले एक और गैंग पकड़ा गया था जबकि टीईटी परीक्षा से पहले भी साल्वर गैंग को इलाहाबाद से एसटीएफ ने दबोच लिया।

एसटीएफ के एएसपी प्रवीण सिंह चौहान ने बताया कि इस गैंग के पास से 54 इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस, 45 ब्लू टूथ, 30 डिवाइस स्टीकर मिले हैं। परीक्षा केंद्र से बहुत दूर बैठकर यह इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस की मदद से अपने कैन्डिडेट को प्रश्न पत्र हल कराते। यह लोग बोलकर सारे उत्तर बताते कैन्डीडेट को सिर्फ सुनकर उत्तर लिखने थे।

loading...
=>