चौंका देगी यूएन की रिपोर्ट, 3.79 लाख रोहिंग्या का बांग्लादेश पलायन

ढाका। बांग्लादेश में संयुक्त राष्ट्र (यूएन) कार्यालय ने बुधवार को उत्तर-पश्चिम म्यांमार के राखिने राज्य में हिसा भडक़ने के बाद वहां से बांग्लादेश भागे रोहिंग्या लोगों की संख्या 25 अगस्त से लेकर अब तक 3.79 लाख बताई है जो पिछली बार की संख्या से 9,000 अधिक है।

संयुक्त राष्ट्र ने मंगलवार को कहा कि पिछले महीने हुई हिंसा के बाद 370,000 रोहिंग्या बांग्लादेश भाग गए। इंटर सेक्टर कोऑर्डिनेशन ग्रुप ने एक रिपोर्ट में कहा कि यहां पहुंचने वाले नए लोगों की संख्या 188,000 के आसपास है, जिन्हें अस्थायी शिविरों में ठहराया जा रहा है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 156,000 रोहिग्या अस्थायी बस्तियों और मौजूदा शिविरों में रह रहे, जबकि लगभग 35,000 रोहिग्या लोगों को स्थानीय समुदायों द्वारा ठहराया गया।

मौजूदा संकट 25 अगस्त को उभर कर सामने आया जब अराकन रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी (एआरएसए) के विद्रोहियों ने उत्तर-पश्चिम राखिने राज्य में पुलिस और सैन्य चौकियों पर हमला कर दिया था, जिसके बाद म्यांमार सेना ने हिंसक कार्रवाई करते हुए रोहिंग्या लोगों पर हमला कर दिया।

सीमावर्ती चौकियों पर रोहिंग्या विद्रोहियों द्वारा हमले के बाद म्यांमार सेना द्वारा इसी तरह की आक्रामक सैन्य कार्रवाई ने पिछले साल अक्टूबर में 80,000 से अधिक रोहंग्याओं को पलायन करने को मजबूर कर दिया था।

इस संकट से पहले बांग्लादेश में करीब 3 लाख से लेकर 5 लाख तक रोहिग्या लोग रह रहे थे, जिसमें से केवल 32 हजार रोहिंग्या लोग ही कॉक्स बाजार जिले में बतौर शरणार्थी का दर्जा प्राप्त शिविरों में रह रहे थे।

loading...
=>