कोतवाली पुलिस, नाबालिग, खून, हास्पिटल

किशोरों का खून निकाल रहा था, पुलिस ने दबोचा

पीलीभीत। शहर की कोतवाली पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर एक शख्स को रंगे हाथों एक मकान से एक नाबालिग लड़के का खून निकालते पकड़ा है, जबकि एक और नाबालिग लड़के का भी खून निकालने की तैयारी थी। इसके लिए उपकरण और सामान भी पास रखा हुआ था। वहीं, मौजूद आरोपित का एक साथी छत से कूदकर फरार हो गया।

जानकारी के मुताबिक, शुक्रवार शाम को शहर कोतवाल देशपाल सिंह को मुखबिर से सूचना मिली कि कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला शेर मोहम्मद में एक मकान में अवैध रूप से कुछ लोग खून निकालने का गंदा कारोबार करते हैं। इस समय भी दो बच्चों का खून निकालने की तैयारी की जा रही है।

कोतवाल देशपाल सिंह ने पुलिस टीम के साथ मौके पर छापा मार दिया। उस समय मकान मालिक जाकिर एक किशोर उम्र के लड़के का खून निकाल रहा था।

दूसरे किशोर का भी खून निकालने का सामान वहीं रखा था। पुलिस ने जाकिर को दबोच लिया, लेकिन उसका एक साथी छत के सहारे कूद कर फरार होने में सफल हो गया।

मामले का सबसे आश्चर्यजनक पहलू यह है कि आरोपित शहर के नामचीन एसएस हॉस्पिटल का प्रमुख कर्मचारी है। कोतवाल देशपाल सिंह ने बताया कि आरोपित से पूछताछ में सामने आया है कि जिसका खून निकाला जा रहा था उससे 500 रुपये में लेकर दूसरे को 1000 रुपये में बेचना था।

पुलिस ने बताया कि पूछताछ में कई महत्वपूर्ण सूचनाएं सामने आई है। इस घृणित कार्य में बड़ा गिरोह कार्य कर रहा है। आरोपित ने कई साथियों के नाम भी कबूले हैं।

आरोपित जाकिर ने जो छह साथियों के नाम पुलिस को बताए हैं, वे भी किसी न किसी हास्पिटल या जाँच केन्द्रों से जुड़़े है। हालाँकि अभी यह साफ नहीं हैं कि इस खून निकालने के धंधे के तार हॉस्पिटल या जाँच केन्द्रों के मालिकों से जुड़े हैं या नहीं। फिलहाल पुलिस आरोपित के कबूलनामे के आधार पर जाँच को आगे बढ़ाकर कड़ी कार्रवाई की बात कह रही है।

loading...
=>