न्यू इंडिया में राज्यपालों की महत्वपूर्ण भूमिका : कोविंद

नई दिल्ली, 12 अक्टूबर (आईएएनएस)| राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार को कहा कि 2022 तक ‘न्यू इंडिया’ के सपने को साकार करने के लिए राज्यों के राज्यपालों को महत्वपूर्ण भूमिका निभाना होगा।

राष्ट्रपति भवन में 48वें राज्यपाल सम्मेलन के उद्घाटन समारोह में कोविंद ने कहा कि वर्ष 2022 में भारत की स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने के अवसर पर राष्ट्रीय लक्ष्य एवं महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

उन्होंने कहा कि इसे सुनिश्चित करने के लिए हमें साथ मिलकर राष्ट्रीय लक्ष्य को प्राप्त करने के उपाय करने होंगे। राज्यपालों को अपने राज्यों में सभी साझेदारों को इसके लिए उत्साहित और संपर्क स्थापित करना होगा।

कोविंद ने जोर देते हुए कहा कि इसके लिए केवल पांच वर्ष का समय बचा है और भारत सरकार ऐसा समाज बनाने के लिए प्रतिबद्ध है जो सुरक्षित, समृद्ध और सबके लिए अवसर मुहैया कराने के साथ विज्ञान व प्रोद्यौगिकी के क्षेत्र में अगुवा हो।

उन्होंने कहा कि 2017 से 2022 तक इन पांच वर्षो को न्यू इंडिया के निर्माण में लगाना है जो भ्रष्टाचार, अशिक्षा, कुपोषण, अस्वच्छ स्थितियों से मुक्त होगा।

इस दो दिवसीय सम्मेलन में 27 राज्यों के राज्यपाल एवं केंद्रशासित प्रदेश के तीन उपराज्यपाल मौजूद थे।

राष्ट्रपति ने कहा कि राज्यों में विधायिका प्रणाली के महत्वपूर्ण भाग होने की वजह से राज्यपाल अपने राज्य के विकास के लिए विधायकों को जनकल्याण मुद्दे को लागू करने पर चर्चा के लिए राजभवन बुलाकर नए आयाम स्थापित कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि इस सम्मेलन का उद्देश्य राज्यपालों एवं उपराज्यपालों के अपने अनुभव साझा करने के लिए एक मंच उपलब्ध कराना है।

कोविंद ने कहा कि राज्यपाल विश्वविद्यालयों के कुलपति एवं उपकुलपतियों, अकादमिकों, समाजिक कार्यकर्ताओं से संपर्क स्थापित कर गुणवत्तापूर्ण चर्चा कर सकते हैं और समाज एवं राज्य सरकार को बहुत कुछ दे सकते हैं।

उन्होंने कहा कि विकसित भारत का सपना तभी पूरा होगा जब सभी राज्य मिलकर साथ काम करेंगे।

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी उद्घाटन सत्र में शामिल हुए।

loading...
=>