जो ‘तवायफ’ समाज की नजर में अशुद्ध है, वो दुर्गा पूजा के लिए इतनी पाक क्यों, जानें यहां

नवरात्र के शुभ दिनों की शुरुआत हो चुकी है। यूँ तो हर देश में उत्सव और हर्षोल्लास का मौसम छाया हुआ है, पर पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा फेस्टिवल की तैयारियां ख़ासा देखने लायक है।

जहां एक तरफ यहाँ हर जगह पांडाल सजाए जाएंगे, वहीं दुर्गापूजा के दुर्गा माता की बड़ी बड़ी मूर्तियां भी स्‍थापित की जाएंगी।
लेकिन यहाँ माता दुर्गा की मूर्तियों को लेकर एक खास तरह की मान्यता है। जिसके  अनुसार मूर्तियों को बनाने के लिए तवायफ के घर बाहर या रेडलाइट एरिया से मिट्टी लाना जरुरी है।

मूर्ति बनाने वाले कलाकारों का कहना है कि भारत-पाक बॉर्डर में बने तनोट माता के मंदिर से पाकिस्‍तानी फौज डरती है।

परंपरा के मुताबिक रेडलाइट एरिया की मिट्टी को जब तक मूर्ति में इस्तेमाल नहीं किया जाता तब तक वह पूर्ण नहीं मानी जाती।

हालांकि पहले कारीगर या फिर मूर्ति बनवाने वाले सेक्स वर्कर्स के घरों से भिखारी बनकर मिट्टी मांग कर लाते थे, लेकिन बदलते समय के साथ ही इस मिट्टी का भी कारोबार शुरू हो गया।

मिट्टी का यह कारोबार पहले मुख्य रूप से पश्चिम बंगाल में मनाया जाता था, लेकिन अब यह पूरे देश में मनाया जाने लगा है।

दरअसल ‘सोनागाछी’ पश्चिम बंगाल का सबसे बड़ा रेडलाइट एरिया है और अधिकतर जगह मूर्तियों में सोनागाछी की मिट्टी का इस्तेमाल होता है।

बता दें कि, दुर्गा पूजा में माँ की मूर्तियाँ सोनागाछी की मिट्टी के बिना नहीं बनती है मूर्ति दुर्गा पूजा में सिर्फ बंगाल में ही वेश्यालयों के की मिट्टी का इस्तेमाल नहीं किया जाता बल्कि संपूर्ण देश में वेश्यालय की मिट्टी का इस्तेमाल किया जा सकता है जिसकी कीमत 300 से 500 रुपए बोरी होती है वेश्यालय की मिट्टी से बनी मां दुर्गा की प्रतिमा की कीमत 5 हजार से लेकर 15 हजार तक होती है।

क्या आप जानते है कि ऐसी मान्यता क्यों है? दरअसल, इस मान्यता के पीछे लोगों के अपने-अपने विश्वास और राय जुडी है।

आइये बताते है आपको इस मान्यता के पीछे की वजह-

दरअसल, जब कोई व्यक्ति ऐसी जगह पर जाता है तो उसकी सारी अच्छाइयां बाहर रह जाती हैं। उसी बाहर की मिट्टी को मूर्ति में लगाया जाता है।

वहीँ कुछ लोग इसके पीछे की वजह नारी ‘शक्ति’ को मानते है लोगों का मानना है कि ऐसी औरते अगर कहीं गलत है तो उसके पीछे समाज और वक्त की खामियां रही होंगी। इसलिए उन्हें सम्मान देने के लिए ऐसा किया जाता है।

और सबसे मशहूर मान्यता के पीछे एक कहानी है जिसमें ऐसा माना जाता है कि एक वैश्‍या मां दुर्गा की परम भक्त थी और उस वेश्या को समाज के तिरस्कार से बचाने के लिए मां दुर्गा ने उस वेश्या को यह वरदान दिया था की उसके यहां की मिट्टी का इस्तेमाल जब तक उनकी प्रतिमा में नहीं किया जाएगा तब तक वह प्रतिमाएं अपूर्ण मानी जाएगी।

loading...
=>