लखनऊ मेट्रो के एमडी कुमार केशव ने भूमिगत स्टेशनों का लिया जायजा

लखनऊ। लखनऊ मेट्रो रेल कारपोरेशन के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने शनिवार को लखनऊ मेट्रो के साउथ-नार्थ कॉरिडोर में आने वाले भूमिगत स्टेशनों का निरीक्षण किया। इस निरीक्षण में उनके साथ डायरेक्टर वर्क एंड इंफ्रास्ट्रक्चर दलजीत सिंह वडायरेक्टर रोलिंग स्टॉक महेंद्र कुमार भी मौजूद थे।

लखनऊ मेट्रो ने जहां अपने प्राथमिक खंड में आने वाले आठो मेट्रो स्टेशनों का कार्य समाप्त कर लिया है वहीं चारबाग मेट्रो स्टेशन के आगे पडऩे वाले भूमिगत भाग की शुरुवात भी यहीं से हो जाएगी।

यहां पर रैंप का कार्य बहुत तेजी से किया जा रहा है, जिसमें कुल 60 डायफ्राम वॉल को लगाने का कार्य शुरू कर दिया गया है। यही आगे जाकर के पहले भूमिगत मेट्रो स्टेशन से मिलेगा जिसके कार्यों की समीक्षा प्रबंध निदेशक, डायरेक्टर्स ने संस्था के साथ निर्माण स्थलों पर जाकर की।

इसके बाद उन्होंने दूसरे भूमिगत निर्माणधीन मेट्रो स्टेशन सचिवालय पर चल रहे कार्यों को गहनता के साथ देखा व जरूरी दिशा निर्देश भी दिए। उन्होंने इस खंड के आखिरी भूमिगत मेट्रो स्टेशन (हजरतगंज) को भी देखा, जो कि आगे चल कर रैंप के जरिये एलिवेटेड भाग (केडी सिंह बाबू मेट्रो स्टेशन) से मिल जाएगा, जहां पर इस खंड के पहले पिलर की नींव रखी जाएगी जो यहां से बनते हुए मुंशी पुलिया तक जाएगी।

इसके साथ ही टीबीएम (गोमती) को निकलने का कार्य भी किया जा रहा है जिसे अनुमानित 20 दिन में निकाल लिया जाएगा। इस खंड में गोमती नदी पर मेट्रो के स्पेशल स्पैन के लिए पिलर्स को बनाने का कार्य भी चल रहा है।

भूमिगत तीनों मेट्रो स्टेशनों में डायफ्रॉम वॉल की कुल संख्या निम्न है-

चारबाग रैंप सेक्शन: 60
हुसैनगंज मेट्रो स्टेशन: 130
सचिवालय: 120
हजरतगंज: 124
हजरतगंज रैंप सेक्शन: 143

loading...
=>