खेलने वाले गुब्बारे ने 8 महीने के बच्चे की ले ली जान

नासिक में थोड़ी सी लापरवाही दे गई जिंदगीभर का दुख

नासिक। आप यह सोचते हैं कि रोते बच्‍चे को बहलाने के लिए उन्‍हें हाथ में गुब्‍बारा देकर चुप कराने का तरीका सेफ है तो जरा संभल जाइए।

नासिक में 8 माह के बच्‍चे के लिए खेलने वाला गुब्‍बारा काल बन कर निगल गया। बच्चा गुब्बारे से खेलते-खेलते उसे मुंह के अंदर निगल गया। जो सांस की नली में जा फंसा। गुब्बारा बच्चे की सांस नली में फंसने के कारण बच्चे की तुरंत मौत हो गई।

यह दर्दनाक घटना नासिक के हनुमान चौक परिसर की है। बच्चे के पिता विनोद जयसवाल फूल विक्रेता हैं। बच्चा अपने पिता की दुकान में ही खेल रहा था। पिता अपने बच्चे को संभाल भी रहे थे।

साथ–साथ दुकान का काम भी देख रहे थे। बच्चा अपने पिता के साथ किलकारी मारकर खेल रहा था। बच्चे को खुश करने के लिए और मन बहलाने के लिए सामने से गुजर रहे एक गुब्बारे वाले से गुब्बारा खरीदकर पिता ने बच्चे को दिया। बच्चा गुब्बारा पाकर काफी खुश था।

खेलते-खेलते जब गुब्बारा फूट गया, तब भी पिता का ध्यान नहीं था। उसी गुब्बारे को बच्चे ने मुंह में डालकर निगल लिया। पिता ने देखा कि बच्चा अचानक बेहोश हो गया।

उसकी सांस नहीं चल रही है। बच्चे की हालत देख पिता ने तुरंत उसे पास के सिविल हॉस्पिटल में भर्ती कराया, लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी। इलाज के दौरान ही बच्चे की मौत हो गई। बच्चे की मौत से परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है।

यह भी पढ़ें : अरबों की दौलत ठुकराकर लड़की ने गरीब प्रेमी से रचाई शादी

 

loading...
=>