यमुना किनारे आयोजन पर श्रीश्री रविशंकर और आर्ट ऑफ लिविंग को एनजीटी की फटकार

आर्ट ऑफ लिविंग और श्रीश्री रविशंकर का रवैया गैर जिम्‍मेदाराना : एनजीटी

नई दिल्ली। राजधानी में यमुना के किनारे विश्व सांस्कृतिक महोत्सव का आयोजन करने को लेकर आर्ट ऑफ लिविंग के आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर और नैशनल ग्रीन ट्राइब्यूनल (एनजीटी) के बीच टकराव बढ़ता जा रहा है।

नैशनल ग्रीन ट्राइब्यूनल (एनजीटी), आर्ट ऑफ लिविंग , श्री श्री रविशंकर, यमुना किनारे आयोजन

गुरुवार को एनजीटी ने कहा कि रविशंकर की ओर से ट्राइब्यूनल की एक्सपर्ट कमिटी की रिपोर्ट पर लगाए गए पूर्वाग्रह के आरोप ‘चौंकानेवाले’ हैं। एनजीटी ने आर्ट ऑफ लिविंग संस्था को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि उनका रवैया गैरजिम्मेदाराना है। संस्‍था मनमानी बयानबाजी नहीं दे सकती। अब मामले की अगली सुनवाई नौ मई को होगी।

दरअसल, मंगलवार को रविशंकर ने इस मुद्दे पर फेसबुक पर लिखी एक पोस्ट में कहा था कि विश्व सांस्कृतिक महोत्सव से अगर पर्यावरण को कोई नुकसान पहुंचा है तो इसके लिए सरकार और एनजीटी को ही जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए। रविशंकर ने एनजीटी पर नैसर्गिक न्याय के सिद्धांतों को अनदेखा करने का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि एक ऐतिहासिक कार्यक्रम को अपराध की तरह प्रस्‍तुत किया जा रहा है।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *