कालेधन का फिल्मों में पहले जैसा इस्तेमाल नहीं : राठौर

राज्यवर्धन राठौर, कालेधन, आतंकवाद, नोटबंदी, सिनेमा, अंतर्राष्ट्रीय फिल्म
                     राज्यवर्धन राठौर

पणजी  | केंद्रीय सूचना एंव प्रसारण राज्य मंत्री राज्यवर्धन राठौर ने कहा कि कालेधन का इस्तेमाल फिल्मों में उतना नहीं होता है जितना कि इसका इस्तेमाल पहले किया जाता था। राठौर ने 47वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह इफ्फी से इतर संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि नकद रहित समाज सिर्फ आतंकवाद पर ही नहीं बल्कि डकैती और चोरी पर भी अंकुश लगाएगा क्योंकि ज्यादा नकदी लेकर जाने के लिए नहीं होगी।

राठौर ने कहा, “शुरुआत से ही फिल्म उद्योग–जब से इसे उद्योग का दर्जा दिया गया– यह चेक भुगतान, बैंक ऋणों पर कार्य करता है। फिल्मों में कालेधन का इस्तेमाल नहीं किया जाता है जितना इसका इस्तेमाल पहले होता था। धीरे-धीरे फिल्मों की वित्त पोषण में ज्यादा पारदर्शिता आई है। इसके परिणाम के तौर पर अच्छे सिनेमा को बढ़ावा मिला है।”

राठौर ने कहा कि नोटबंदी और नकदरहित होने के बहुत से फायदे हैं।

उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि सबसे बड़ा लाभ यह है कि कालेधन के इस्तेमाल से कुछ लोग भारत में महंगाई बढ़ाने जैसा काम कर रहे थे, इससे ईमानदारी से काम कर रहे लोग पीछे छूट जाते थे।”

उन्होंने कहा, “यह अंतर कम होगा। आतंकवाद पर भी प्रभाव पड़ेगा। चोरी, डकैती, मादक पदार्थो, अपराध दर भी कम होंगे। जितना नकद कम होगा इनमें कमी होगी।”

 

loading...

AKK 'Web_Wing'

Adminstrator